लोकतंत्र में गिरने- गिराने की परम्परा है

0 0
Read Time3 Minute, 38 Second

sandeep srajan

जैसे पीने-पिलाने वालों के मजे होते हैं वैसे ही राजनीति में गिरने-गिराने के मजे होते हैं। राजनीति में गिराने वाला और गिरने वाला दोनों ही महान माने जाते हैं। राजनीति में आदमी गिरने से पहले पुरजोर कोशिश करता है कि वो किसी को गिरा दे और गिरे नहीं,राजनीति में तो एक दुसरें को गिराने की होड़ लगी रहती हैं हर कोई एक दुसरे को कभी शब्दों से तो कभी चरित्र से गिराने की तुकतान में रहते हैं। जरा सी कमजोरी सामने आयी के टांग पकड़ के अच्छे अच्छों को गिरा दिया जाता हैं । लोकतंत्र में गिरने- गिराने का खेल तो जैसे शाश्वत परम्परा का निर्वहन करना हैं । कभी केन्द्र की तो कभी प्रदेश की सरकार गिर जाती है या कहें गिरा दी जाती है।

कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार के मुखिया बने तभी से कईं तरह के इंजेक्शन लेकर और एंटीबायोटीक डोज ले कर बैठे हुए थे। उनको ये भरोसा भी था कि उन्होंने जो वैक्सीन लगा रखे हैं वे उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कम नहीं होने देंगे। लेकिन येदियुरप्पा की ने जो विषैले किटाणु फैलाएँ और जोर आजमाईश की तो उनकी कोई दवा काम नहीं आयी और वे अच्छे भले चलते-चलते लड़खड़ाने लगे और आखिर में गिर ही गये ।

कुमारस्वामी पिछले कईं माह राजनीति के दर्द से पिड़ित थे, कराह भी रहे थे और उपर वाली मैडम से इंजेक्शन के डोज बढ़ाने के भी अनुरोध कर रहे होंगे। लेकिन कहा जाता है, अपने करम अपने को ही भोगना है बाकि लोग तो अंतिम संस्कार और उठावने में ही आते है। विद्वानों ने कर्नाटक का नाटक कह कर पन्द्रह-बीस दिनों से गिरने-गिराने के खेल का खूब मजा लिया वो कुमारस्वामी की छाती पर मुंग दलने जैसा ही था । आखिर कर लोगों के मजे में सरकार गिर ही गई और लोग ताली बजाने में लगे हुए है।

वैसे भी बच्चा जब चलना सीखता है तो पहले थोड़ा चलता है और फिर गिरता भी है। चलने का प्रयास जारी रहता है चंदन गाड़ी के सहारे चलता है वह भी फिसलती है फिर गिरता है। गाड़ी बदलती है सायकिल आ जाती है तो फिर सायकिल से भी गिरता है। सायकिल मोटर सायकिल के नये अवतार में मिलती है और कभी न कभी मोटर सायकिल से भी वह गिरता है। लोकतंत्र में मिलीजुली सरकार चलाना मौत के कुएँ में मोटरसायकिल चलाने से कम नहीं है। जरा सा चुके की सरकार गिरी, और मोटर सायकिल का गिरना कुछ न कुछ निशानी दे जाता है। गिरना तो इंसान के जन्म से जुड़ा है। पर वह बच्चा बड़ा होता है तो पता नहीं कितना गिरता है, किस- किस पर गिरता हैं और कितनों को गिराता हैं। ये उसके समय और भाग्य पर निर्भर करता हैं।

#संदीप सृजन

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

खुद को सबसे दूर किया है उसने

Wed Jul 24 , 2019
खुद को सबसे दूर किया है उसने जब से मुझे मंजूर किया है उसने इश्क़ की राह इतनी आसान नहीं करके, जुर्म जरूर किया है उसने आँखें दरिया, लब समंदर हो गए हुश्न को ऐसे बेनूर किया है उसने खुद का अक्स साफ दिखता नहीं खुद को चकानाचूर किया है […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।