राष्ट्र को आह्वान 

0 0
Read Time2 Minute, 57 Second
shiv galdava
दग्ध हृदय से विचलित होकर एक ऐसी राग सुनाता हूँ,
शहिदों की शहादत को मैं शत् शत् शीश नवाता हूँ|
वीरप्रसूता धरा सोनियासर का गुणगान हमेशा गाता हूँ,
कलम से अंगार उगलता निज “राही”नाम कहलाता हूँ||
पुलवामा का घाव भरा नही फिर दुष्टों ने उसे कुरेदा हैं,
शांतिप्रिय राष्ट्र के हृदय को फिर से छेदा हैं|
हे युवाओं!अब वो वक्त आ गया है,शस्त्रों का संधान करो,
देश मांग रहा कुर्बानी सब कुछ फिर बलिदान करो|
जब तक दुष्टों को न मिटा दो, अमन चैन का त्याग करो,
दुष्टों का विनाश कर फिर से राष्ट्र का जग में नाम करो||
मां भारती के आँचल से कब तक बहती रहेगी ये रक्त की धारा?
कब तक सहते रहेंगे दुष्टों के दुष्कृत्यों को,आखिर कब तक?
हमारी इस शांति को दुष्टों ने फिर से भंग कर डाला हैं|
फिर से सैनिकों के जीवन को छल से छिना हैं ,
आज एक कवि की कलम फिर से आह्वान करती हैं,
‘हे युवाओं! शस्त्र उठाओ और दुश्मनों का संहार करो|
अातंकी पैडो़ की जड़ में एक ऐसा वार करो,
नामोनिशान मिटा दो उन आतंकी पनाहगारों का|
और बता दो उन कुत्तों को अगर वजूद अपना मिटाना हैं,
तो इन्हें तो हम मिटा चुके, ओर आतंकी तैयार करों||
अरे कायरों! कब तक छुपकर वार करोगे,
कब तक उजाड़ोगे निर्दोष बहनों का सिंधुर?
हिम्मत है तो प्रत्यक्ष आकर रण करो,
वर्ना जिस दिन भारत के सपूतो ने ठान लिया
उस दिन मिटा देंगे तुम्हारी हस्ती ओर तुम्हारे बापों कों|
फिर तुम्हारी पीढीयां भी याद करेगी तुम्हारे पापों को||
#शिव गल्ड़वा “राही”

परिचय~

नाम~शिवरतन गल्ड़वा
साहित्यक नाम~राही
जन्म स्थान~सोनियासर,श्री डूंगरगढ, बीकानेर (राज.) 
वर्तमान पता-बीकानेर(राजस्थान)
शिक्षा ~बी. एड, एम. ए(हिन्दी)
कार्य क्षेत्र ~व्याख्याता हिन्दी
विधा~कविता,निबंध लेखन
प्रकाशन~
सम्मान~कवि नाम से अभिहित एक सम्मान हैं |
लेखन का उद्देश्य ~मातृभाषा प्रसार व हिन्दी काव्य जाग्रति का प्रचार 
मौलिक रचना~किसान का दर्द,अंतर्द्वन्द्व व अन्य

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

आखिर हुआ दूध का दूध पानी का पानी, दागदार होने से बची शीर्षअदालत।

Tue May 7 , 2019
पूरे विश्व के सामने शर्मसार होने से बची भारत की कानून व्यवस्था। वाह रे षड़यंत्रकारी सियासी लोग। ऐसा सियासी षड़यंत्र कभी गंदी गलियों में हुआ करता था फिर धीरे से यह सत्ता के गलियारे तक पहुँच गया। लेकिन कभी यह षड़यंत्र देश की शीर्ष अदालत को भी अपनी चपेट में […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।