*दर्पण*

0 0
Read Time2 Minute, 32 Second

babulal sharma

दर्पण तू साँची कहइ , झूठइ जग सब लोग।
किरच किरच हो जात है,साँच यही संजोग।।
💫💫💫💫💫
साँच सहन नहि कर सकै,जग पाखंडी धूर्त।
दर्पण दोष करार दइ , लखइ न अपणो मूर्त।।
💫💫💫💫💫
दशरथ देख्यो आइनो, रामहि राज विचारि।
रामलषनसिय वन गये,वै परलोक सिधारि।।
.              💫💫💫💫💫
दर्पण थारी साँच सूँ , खिलजी बण शैतान।
चित्तौड़़ाँ बरबाद कर ,पदमनियाँ बलिदान।।
💫💫💫💫💫
दर्पण सत साहित्य है,सब नै साँच बताय।
भावि पीढ़ी चेतजा, सामी  आँच  जताय।।
💫💫💫💫💫
दर्पण तुलसीदास नै, मुकुरि दियो बतलाय।
रामचरित मानस कथा , सबनै  दई सुनाय।।
💫💫💫💫💫
सत सैया  के  दोहरे , दरपण  जइसे   होय।
साँच प्रीत भगवान की,नर मत आपा खोय।।
💫💫💫💫💫
दर्पण  दास कबीर का, हंसा नीर  व  क्षीर।
झीनी  चादर  में  रखी , दरपण तेरी  पीर।।
💫💫💫💫💫
मीरा ने संसार को , दरपण दिया  दिखाय।
राज घराना त्याग के, बसि वृन्दावन जाय।।
💫💫💫💫💫
आज काल के आइने , झूठ दिखावें मान।
लोकतंत्र बदनाम कर, खुद चावै अरमान।।
💫💫💫💫💫
मुगल काल के आइने,आत्मकथा कहलाय।
रंग महल में जड़ गये, शीश महल बतलाय।।
💫💫💫💫💫
बचते  रहिजो आइनै , साँचइ  खोट कहाव।
नाही तो नर सोच लै,किरच किरच हो जाव।।
💫💫💫💫💫
दर्पण लख रींझो मती, रंग व रूप निहारि।
आतम दर्पण देखिए,मष्तक सोच विचारि।।

नाम– बाबू लाल शर्मा 
साहित्यिक उपनाम- बौहरा
जन्म स्थान – सिकन्दरा, दौसा(राज.)
वर्तमान पता- सिकन्दरा, दौसा (राज.)
राज्य- राजस्थान
शिक्षा-M.A, B.ED.
कार्यक्षेत्र- व.अध्यापक,राजकीय सेवा
सामाजिक क्षेत्र- बेटी बचाओ ..बेटी पढाओ अभियान,सामाजिक सुधार
लेखन विधा -कविता, कहानी,उपन्यास,दोहे
सम्मान-शिक्षा एवं साक्षरता के क्षेत्र मे पुरस्कृत
अन्य उपलब्धियाँ- स्वैच्छिक.. बेटी बचाओ.. बेटी पढाओ अभियान
लेखन का उद्देश्य-विद्यार्थी-बेटियों के हितार्थ,हिन्दी सेवा एवं स्वान्तः सुखायः

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

हर पल घटता जीवन

Thu Sep 27 , 2018
बून्द-बून्द सी टपक रही है जिंदगी। हर पल हर दम रिश रही है जिंदगी।। चट्टानों सा खुद को समझने वालों, छोटे कंकरों में बिखर रही है जिंदगी। रिश्तों का बांध टूट कर बह रहा है। शैलाबो के बहाव में बह रही है जिंदगी।। घर की नींव में छलावों की रेत […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

आपका जन्म 29 अप्रैल 1989 को सेंधवा, मध्यप्रदेश में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर हुआ। आपका पैतृक घर धार जिले की कुक्षी तहसील में है। आप कम्प्यूटर साइंस विषय से बैचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कम्प्यूटर साइंस) में स्नातक होने के साथ आपने एमबीए किया तथा एम.जे. एम सी की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। आपने अब तक 8 से अधिक पुस्तकों का लेखन किया है, जिसमें से 2 पुस्तकें पत्रकारिता के विद्यार्थियों के लिए उपलब्ध हैं। मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष व मातृभाषा डॉट कॉम, साहित्यग्राम पत्रिका के संपादक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मध्य प्रदेश ही नहीं अपितु देशभर में हिन्दी भाषा के प्रचार, प्रसार और विस्तार के लिए निरंतर कार्यरत हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 21 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण उन्हें वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया। इसके अलावा आप सॉफ़्टवेयर कम्पनी सेन्स टेक्नोलॉजीस के सीईओ हैं और ख़बर हलचल न्यूज़ के संस्थापक व प्रधान संपादक हैं। हॉल ही में साहित्य अकादमी, मध्य प्रदेश शासन संस्कृति परिषद्, संस्कृति विभाग द्वारा डॉ. अर्पण जैन 'अविचल' को वर्ष 2020 के लिए फ़ेसबुक/ब्लॉग/नेट (पेज) हेतु अखिल भारतीय नारद मुनि पुरस्कार से अलंकृत किया गया है।