Tag archives for narayan

Uncategorized

वाणी 

वाणी बहुत अनमोल है, सोच-समझकर बोल...l जो सबको मीठी लगे, ऐसी वाणी ही बोलl वाणी में है शक्ति अनेक, अच्छी हो तो कहलाए नेकl चूक जाएं जब वाणी के बोल,…
Continue Reading
Uncategorized

हमारे सपने

हारते हम नहीं, हारते हैं हमारे सपने। हम क्यूँ देते, इतनी अहमियत, अपने सपनों को। सपने सच नहीं, सच है ये , इक, मृगतृष्णा, इक भँवर। और, उस भँवर में,…
Continue Reading
Uncategorized

डमरु घनाक्षरी

सकल  गरल  धर,जगत  प्रगत  कर, प्रबल  तमस  हर,भव  भय मन तर। जल थल  गगन व ,अनल पवन सब, प्रलय  हरत   कह,बम-बम  हर-हर। सतत  जपत  मन ,प्रणव  नवल तप, लय…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है