जब हम बिल्कुल छोटे थे नहीं ज़रा भी मोटे थे करते थे सब प्यार मुझे देखते सौ -सौ बार मुझे मम्मी दूध पिलाती थीं नानी कपड़े लाती थीं पापा सब कुछ लाते थे झूले हमें झुलाते थे फिर जब कुछ हम बड़े हुए धीरे -धीरे खड़े हुए लगे बोलने बातें […]

डा प्रभात कुमार प्रभाकर नई नस्ल के हिन्दी के ऊर्जावान लेखक  हैं. इस बात का अंदाज़ा इसी से लग जाता है कि इस नये साल में ही अज्ञेय पर उनकी दूसरी और कुल चौथी पुस्तक है. अज्ञेय विचार और विमर्श डा प्रभात कुमार प्रभाकर, और डा सत्यदेव प्रसाद के सन्युक्त सम्पादन […]

सुनो  ज़रा इक बात कबूतर तुम रहते थे छत के     ऊपर मगर नज़र न अब आते   हो चले कहां तुम फिर जाते   हो कहा कबूतर सुन मेरे      भाई तुमने ही ये       आफत    लाई दिये काट   जंगल   को     सारे यही पेड़ थे      मेरे        सहारे नहीं दूर    तक   मिलता  पानी आग उगलती    […]

-जियाउर रहमान जाफ़री सबकी देखो यही कहानी सब कहते हैं  पानी -पानी है ये तो बरसात का मौसम बारिश वाली रात का मौसम माना बिजली चमक रही है बूंद एक न टपक रही      है बादल भी आकाश पे  छाता लेकिन फ़ौरन ही छट   जाता सूख रहे हैं        नदियाँ -नाले बहुत […]

क्या    शायु       ने शौक़ दिखाया घर में आकर     पेड़       लगाया हरी भरी     ये   डाली        उसकी वो करता     रखवाली        उसकी वक़्त से     पानी   भी देता      है खाद भी     आकर ले    लेता    है घेर के ईंटे     से    वो           आये कहीं ना   बकरी      ये खा    जाये ख़ुशियाँ    कितनी   वो   पाता  है रोज़ पेड़ […]

अज्ञेय की अलंकारधर्मिता के नव्य आयाम….. ये डा प्रभात कुमार प्रभाकर की आलोचना की नई किताब है. ये कहने की कतई ज़रूरत नहीं कि अज्ञेय पर अब तक जितनी भी किताबें  हैं उसमें अलंकार की दृष्टि से उनकी रचनाओं को समझने का यह पहला प्रयास है. ज़ाहिर है रचनाकार ने […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।