Tag archives for bharat

Uncategorized

कभी फरहाद कभी …..

कभी फरहाद कभी मजनूं कभी रांझा बना डाला तुम्हारे इश्क ने जानां मुझे क्या-क्या बना डाला ============================== पिला कर खून अपना पाला जिसको उम्र भर मैंने उस दिल को एक…
Continue Reading
Uncategorized

मुश्किलें

मुश्किलें लाख हों उम्मीद कहां मरती है ये वो शमा है जो तूफानों में भी जलती है ========================== ये बात सच है चाहे मानो या न मानो तुम जहां दवा…
Continue Reading
Uncategorized

वक्त-ए-आखिर…

r वक्त-ए-आखिर तुझमें मुझमें फर्क क्या रह जाएगा, ना रहेगा कोई छोटा, ना बड़ा रह जाएगा, =============================== काम आएँगी वहां बस अपनी-अपनी नेकियां, मान-इज़्ज़त महल-दौलत सब पड़ा रह जाएगा, ===============================…
Continue Reading
Uncategorized

दूर होकर भी मेरे दिल के बेहद पास लगती है

दूर होकर भी मेरे दिल के बेहद पास लगती है हज़ारों सूरतों में वो सूरत-ए-खास लगती है ============================= मिल जाए तो जीने का मज़ा आ जाए मुझको भी बिना उसके…
Continue Reading
Uncategorized

कभी बना के हँसी होंठों

कभी बना के हँसी होंठों पे सजाऊँ उसे कभी अश्कों की सूरत आँख से बहाऊँ उसे ========================== कभी पढूँ उसे पाकीज़ा आयतों की तरह कभी गज़ल की मानिंद गुनगुनाऊँ उसे…
Continue Reading
Uncategorized

अच्छे बुरे वक्त में

अच्छे बुरे वक्त में भी जो बिल्कुल एक समान रहे, इस दुनिया में उसकी अपनी एक अलग पहचान रहे, =============================== जब भी सजदा किया है मैंने यही दुआ बस माँगी…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है