Advertisements
bharat malhotra
छोड़कर अपना मैं और तुम आओ हम बनाते हैं
मिला कर सारे सुर कोई नई सरगम बनाते हैं
============================
उनकी नफरतों का प्यार से देकर जवाब उनको
देखो दुश्मनों को कैसे हम हमदम बनाते हैं
============================
रंग कर दोस्ती के रंग में ये कपड़ा भरोसे का
लहराए जो सदियों तक वैसा परचम बनाते हैं
============================
यहाँ हर कोई डूबा है अपनी-अपनी फिक्रों में
किसी के दर्द कब दिल को हमारे नम बनाते हैं
============================
वही इंसान मंज़िल पर पहुंचते हैं यहाँ पर जो
मेहनत ज्यादा करते हैं, बातें कम बनाते हैं
============================

#भरत मल्होत्रा

परिचय :– 
नाम- भरत मल्होत्रा 
मुंबई(महाराष्ट्र)
शैक्षणिक योग्यता – स्नातक 
वर्तमान व्यवसाय – व्यवसायी 
साहित्यिक उपलब्धियां – देश व विदेश(कनाडा) के प्रतिष्ठित समाचार पत्रों , व पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित
सम्मान – ग्वालियर साहित्य कला परिषद् द्वारा “दीपशिखा सम्मान”, “शब्द कलश सम्मान”, “काव्य साहित्य सरताज”, “संपादक शिरोमणि”  
झांसी से प्रकाशित “जय विजय” पत्रिका द्वारा ” उत्कृष्ट साहितय सेवा रचनाकार” सम्मान एव 
दिल्ली के भाषा सहोदरी द्वारा सम्मानित, दिल्ली के कवि हम-तुम टीम द्वारा ” शब्द अनुराग सम्मान” व ” शब्द गंगा सम्मान” द्वारा सम्मानित  
प्रकाशित पुस्तकें- सहोदरी सोपान 
                         दीपशिखा 
                         शब्दकलश 
                         शब्द अनुराग 
(Visited 2 times, 1 visits today)
Please follow and like us:
0
http://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2018/07/bharat-malhotra.pnghttp://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2018/07/bharat-malhotra-150x150.pngmatruadminUncategorizedकाव्यभाषाbharat,malhotraछोड़कर अपना मैं और तुम आओ हम बनाते हैं मिला कर सारे सुर कोई नई सरगम बनाते हैं ============================ उनकी नफरतों का प्यार से देकर जवाब उनको देखो दुश्मनों को कैसे हम हमदम बनाते हैं ============================ रंग कर दोस्ती के रंग में ये कपड़ा भरोसे का लहराए जो सदियों तक वैसा परचम बनाते हैं ============================ यहाँ हर कोई...Vaicharik mahakumbh
Custom Text