नजरों से नजर जब मिली थी कभी, नाम प्राण पृष्ठ पर तभी लिख गई। सोचा कई दफा जाकर कह दूँ आज अभी, कर गया दिल लड़कपन कुछ कहा ही नहीं। रोज लिखकर मैंने खत को दफन कर दिया, दिल में उठी उफन कहती है अब रूकेगी नहीं। अधरों पर मुस्कान […]

हर आदमी के अन्दर कम-से-कम एक आदमी और रहता है, यानि एक आदमी कम-से-कम दो आदमी के बराबर होता है, कई बार तो हजारों आदमियों के बराबर। एक आदमी के सामने, एक समय में कम-से-कम दो दुनिया होती है, कभी-कभी तो इतनी सारी दुनिया कि, उसे होश ही नहीं रहता […]

धीरे-धीरे फँस रहे, अपने आजम खान.. कितना घोटाला किए, पूछे हिन्दुस्तान। पूछे हिन्दुस्तान, यतीमों को दुतकारा.. छीन लिए तुम भूमि, कफन का लिए सहारा। कह सुरेश हे आजम, चल ‘नैनी’ के तीरे.. टीपू काम ‘बोलता’ देखो धीरे-धीरे ।                         […]

जन्मभूमि का मामला, फिर से भरे उफान.. योगी तुम भी देख लो, उबले हिंदुस्तान। उबले हिंदुस्तान, विरोधी को समझाओ.. सीधी अंगुली यार, इसे मत टेढ़ी कराओ। कह सुरेश टूटेगा बबुवा, अगर तनेगा.. राम जहाँ जन्मे, मंदिर तो वहीं बनेगा।।                       […]

माया माया में फँसीं, पप्पू में अखिलेश.. मोदी काशी में फँसे, देख रहा है देश। देख रहा है देश, ‘गधों’पर मस्ती छाए.. डिम्पल भउजी देख, कबीरा ललुवा गाए। कह सुरेश ‘वोटर’ को, हर कोई भरमाया.. बाभन तज मुस्लिम का, हाथ पकड़ ली माया।              #सुरेश […]

1

मैंने खुदा को देखा है.. कभी रोटी बेलते हुए, कभी रोटी सेंकते हुए, कभी हल-बैल के साथ दौड़ते हुए। मैंने खुदा को देखा है, सिर पर थोड़ी-सी धूप लिए.. और माटी में अपनी खोई हुई, तक़दीर को खोजते हुए। मैंने खुदा को देखा है, कभी प्यासे होंठ लिए.. आँखों से […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।