अद्भुत साहस, अद्भुत बल है,  अद्भुत इच्छा शक्ति भी । जोश दौड़ता रगों में जिसके,    भारत मां की भक्ति भी ।।  अक्षत, रोली,चंदन लेकर,     करते तुमको वंदन है ।  हर दिल के स्पंदन तेरा,      पुण्य धरा पर अभिनंदन है ।।  तेरी जीवटता के आगे,   […]

हमारे सुकून के ख़ातिर,   वो अपना सुकून खोते रहे । हम सो सकें बेफ़िक्रे,   वो अपनी नींदें खोते रहे ।। जांबाज़ हैं,डटे हैं सरहद पर,   हमारे लिए वो ज़िंदगी खोते रहे । शहादत पर न अश्क़ बहाना यारों,  ताबूत उनके वतन के लिए रोते रहे ।। किसी […]

तुम्हारे ग़म, उलझनें ज़िन्दगी की, अपनी हंसी में छुपाते हो । बिछड़ कर आज भी रहनुमा, तुम याद बहुत आते हो ।। सहर की तरह रोशन हो, क्यों अंधेरों से घबराते हो । नम आंखें ख़ुद यह कहती, तुम याद बहुत आते हो ।। महक़ हो,मुश्क़ ए गुलाब हो, फ़िज़ाओं […]

तेरे ख़्यालों में रहना अब अच्छा लगता है । यादों के दरिया में बहना अच्छा लगता है ।। तेरे दिल में सांसें लेना अच्छा लगता है । इंतज़ार के पल पल सहना अच्छा लगता है ।। ख़ुशबू में तेरी महक़ना अब अच्छा लगता है । इश्क में तेरे बहकना अब […]

बदल सी गई है तासीर हवाओं की, फ़िज़ा ने अंदाज़ भी बदला है । हो कर मस्त मलंग मोहब्बत में तेरी, कहां अब ये दिल अकेला है ।। इश्केदारियां लुभा रही हैं दिल को मेरे, ये दुनिया तो बस झमेला है । महक़ उठें है अब गलियां चौबारे देखो, हुआ […]

गुज़र गया एक और साल फ़िर,   ख़्वाहिशें अभी अधूरी हैं । नववर्ष की नवबेला में अब नहीं,    लक्ष्य से दूरी है ।। कितने ख़्वाब, कितने ख़्याल;     दिल ने इस साल संजोए थे । वफ़ा की मिट्टी में ,     हमने बीज इश्क के बोए थे […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।