तुम मार्गदर्शक तुम ही हो प्रेरणास्रोत्र तुम हो चट्टान समान जो विपदाओं से बचाता तुम हो एक विशाल वृक्ष जो अपनी छाया से हमारे जीवन में शीतलता लाता तुम ने बचपन हाथ थाम चलना सिखाया और जीवन में जरुरत पड़ने पर तुम्हें अपनी परछाई बना पाया पिता वो शख्सियत है […]

घर जो कभी जगमगाता था रौशनी से ,आज खंडर सा वीरान है उसमे रहने वाला कुछ इस तरह से सोचता है। . . . . . . . . . . . . . . . ….. . . . . .. आज तू खड़ा वीरान है ! खंडर बना […]

रिश्तो को समझते समझते तह उम्र निकल गयी जब आयी रिश्तो की समझ तब ज़िन्दगी की डोर हाथ से फिसल गयी क्यूँ बेगानी सी ज़िन्दगी जीते रहे अपनेपन की आस में कुछ अपने ताह उम्र तरसते रहे जब किनारा आया नज़र तो पैरो के नीचे से जमीं निकल गयी ये […]

नव जीवन के सपने बुनती एक किशोरी के भाव कुछ इस तरह। .. . . . . . . .. . . . . . . . . .  स्पंदन था ह्रदय में मेरे भावनाये पुलकित हो रही मस्तिष्क में था स्वपनलोक सा भाव  नए स्वपन अवतरित हो रहे मदहोशीयो सा […]

मन कभी चंचल कोमल मन कभी गहन चिंतन में लिप्त कभी अनंत गहराइओ में खोया कभी पक्षी समान भरे उड़ान मन की बाते आँखो की भाषा कुछ नयी अभिलाषा मन पल में अनंत गहराइयां छू जाये मन पल में विचलित पल में स्थिर हो जाये मन की बाते जानना बहुत […]

आज दिल के एक कोने से आवाज़ आयी जो कसक दबा रखी थी सालो से आज जाग आयी देखा उसे जब मैने सालो बाद मन में एक बात आयी काश की तू हिस्सा होता मेरी ज़िन्दगी का और में होती तेरी परछाई पर खेल था तकदीरो का किस्मत की लकीरो […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।