जहाँ मिलती है अम्बर और धरती वो क्षितिज कहलाता है निराला सा है बंधन भ्रम हो के भी सबको भाता है दिखता है दूर मगर पर मुकम्मल सा नजर आता है न होके भी दिखाई दे ऐसा बंधन सबको भाता है स्वार्थ के जहान में यथार्थ का है दर्शन काश […]

सशक्त है बदलाव में धरा का दर्द ज्ञात नहीं जुड़ाव संस्कृति से था जो वो हमे अब भाता नहीं बदलाव सिर्फ बदलाव अच्छे से बुरे की ओर जा रहे ओर मान रहे बदलाव इस बदलाव ने धरा का छीन लिया मान दर्द सिर्फ धरा का नहीं शीन हो गए सभी […]

एक विवाहिता जिसने विवाहित जीवन की शुरुआत में ही अपने सुहाग को खो दिया उसके मन के भाव नैनो में सजाये थे कुछ ख्वाब समय की ठोकर ने उन सपनो को चकनाचूर किया ज़िंदगी ने ही मुझे वक़्त न दिया कुछ सहेज लू कुछ समेट लू कुछ बातो को दिल […]

तू अंश नहीं मेरा फिर भी मेरा वजूद है सबब है ज़ीने का मेरे तू मेरा अच्छा नसीब है जुस्तजू थी मेरी जब तक तुझे न पाया था तेरे आने पर हर दिन दीवाली सा मनाया था तू नहीं था जब जीवन में मेरे तब मन में एक अहसास आया […]

सिमट रही थी तेरे आगोश में प्यार पाने को मगर तेरी जुस्तजू तो कोई और थी निगाहे मिलाने से कशिश नहीं आती और दूर जाने से रौनके नहीं मिट जाती हमने प्यार में धोखा खाया जिसे समझा अपना उसे गैर पाया जिसको समझ रहे थे नाकारा उसे तो तुमने सर […]

किसान अन्नदाता पर दुर्भाग्य ऐसा की उसके हिस्से में ही अन्न नहीं आता कैसा भाग्य ,कैसी नियती ,कैसा तक़दीर का खेल अन्न दाता ही खुद अन्न के एक एक दानें को तरस जाता कर्ज ,भूख और मौत तीनो का अन्नदाता से गहरा नाता भूख और कर्ज से झुकी कमर कोशिशे […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।