1

कुछ तार सुरों के बहके हैं, मतवारे पंछी चहके हैं। दिनमान में भी अब दीप जले, रात में अब दिनकर चमके। मन सुन्दर वन-सा घना-घना, लिपटा भावों से हर तरु तना। वन जीवों-सी चंचल अभिलाषा, नहीं निर्धारित कोई इनका बासा। सब अपनी ही धुन में लहके हैं, कुछ तार सुरों […]

हे ईश्वर ये किस जगह पर हूँ मैं, मैं स्वयं को ही खोज नहीं पाता… मद्धिम-मद्धिम है ये सांसें अब तो, स्वयं मैं कुछ भी सोच नहीं पाताl            उसकी स्मृति में ही अब हर क्षण है, पृष्ठों में मात्र वो ही नजर आता…            लिखना तो एक ढेर चाहता […]

चलो अच्छा हुआ, जो कविताओं को विधाओं के बंधनों से मुक्त कर दिया…l ये जीवन की विषमताएं,सड़कों-सी  उबड़-खाबड़ हो चली हैं…, कहीं गड्ढे तो कहीं असमान उभार, मरम्मतें भी पैबंदों-सी हो चली है…l कैसे कोई इन, खबड़ीले उछलते रास्तों पर अपने भावों की स्कूटर चलाए ??? चलो अच्छा हुआ, जो […]

1

तेरे-मेरे इस बंधन की, एक वंदनवार बनाई है… अंतरमन के द्वारे पर इसकी, लड़ी सजाई है। अपनी प्रीत के हर रंग से मैंने, अनुपम रंगोली बनाई है… निरख चटख रंगों की छटा हर्षित, मन अरुणाई है। नयनों के दीप जलाकर मैंने, दीप कतार लगाई है… तेरे नयनों की प्रज्जवलित बाती, हर दीपशिखा […]

मैं एक गृहिणी हूँ,और हिन्दी को राष्ट्रभाषा रूप में प्रचारित एंव प्रसारित होने और न हो पाने के कारणों पर मेरा दृष्टिकोण,भाषा अधिकारियों  से वैभिन्यता रखता हो,उनकी दृष्टि में उतना तर्कसम्मत और वैज्ञानिक न हो,इसके बावजूद मेरा दृष्टिकोण एक आम भारतीय समुदाय का प्रतिनिधित्व अवश्य करता है, ऐसा मेरा मानना […]

मंदिरों के बाहर पड़े भगवान को चढ़ाए पूजा पुष्प,जिनको भक्तगण आंख बंदकर कुचल के चले जाते हैं। पूरी श्रृद्धा के साथ भगवान की प्रतिमा के मुंह में ठूंसा हुआ मिष्ठान्न,मतलब जब तक भक्त द्वारा चिपकाई गई बरफी प्रभु-प्रतिमा के मुंह से चिपक न जाए,भक्त को संतुष्टि नहीं होती है। बाद […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।