‘मेडिकल की पढ़ाई हिंदी में’

1
Read Time14Seconds

cropped-cropped-finaltry002-1.png

यह एक मूर्खतापूर्ण बात है कि हिंदी की प्रगति के लिए प्राइवेट कंपनियों और प्राइवेट अस्पतालों को हिंदी में पढ़े-लिखे इंजीनियर और डॉक्टर को अपने यहाँ नौकरी पर रख लेना चाहिए |

उनको मुनाफे से मतलब है, हिंदी या अंग्रेजी से नहीं | मुनाफे की खातिर वे योग्य लोगों को नियुक्त करेंगे चाहे वे हिंदी में पढ़े हों या अंग्रेज़ी में | अगर IIT और AIIMS में पढ़ाई का माध्यम अनिवार्य तौर पर अंग्रेज़ी रहे और घटिया संस्थानों में भी पढ़ाई का माध्यम अनिवार्य तौर पर अंग्रेजी ही रहे; केवल उत्तर लिखने में हिंदी का विकल्प हो तो बाज़ार में तो यह समझ रहेगी ही कि हिंदी माध्यम से पढ़े इंजीनियर और डॉक्टर अपेक्षाकृत घटिया दर्जे के होते हैं |

फ्रांस, जर्मनी, चीन, जापान कोरिया जैसे देशों के प्राइवेट उद्यमी कहाँ अंग्रेज़ी के प्रति आकर्षित होते हैं ? क्यों ? क्योंकि वहाँ की सर्वोत्कृष्ट प्रतिभा स्थानीय भाषा के माध्यम से पढ़कर निकलती है |

अगर हम चाहते हैं कि हिंदी माध्यम से पढ़े डॉक्टरों और इंजीनियरों की निजी क्षेत्र में पूछ हो तो आई आई टी और AIIMS जैसे देश के सर्वोत्कृष्ट संस्थानों में भी पढ़ाई के माध्यम के रूप में और परीक्षाओं में उत्तर लिखने के माध्यम के रूप में हिंदी का विकल्प होना चाहिए |
श्यामरुद्र पाठक

आप हिन्दी माध्यम में उच्च शिक्षा की बात कर रहे हैं और कर्नाटक सरकार ने हिन्दी उन्मूलन के लिए कमर कस ली है। प्राथमिक शिक्षा से ही हिन्दी को गायब करने का षडयंत्र रचा गया है। प्रथम भाषा सर्वप्रिय अंग्रेजी के बाद द्वितीय भाषा कन्नड़ को अनिवार्य करने के बाद बेचारी हिन्दी के लिए समय ही नहीं बचता। हिन्दी को राष्ट्र भाषा घोषित नहीं किए जाने के दुष्परिणाम सामने आ रहे हैं।
राजेश्वरी

Medical education in Hindi or regional languages I don’t see any possibility! Recently ABVHV the only university, has closed engineering and many other courses in Hindi for wamt of students.
Kulwant Singh , Secretary, Hindi Vigyan Sahitya Parishad,
BARC, Mumbai, 022 25595378

सेवानिवृत्त विश्वविद्यालय शिक्षक होने के नाते मेरी एक-दो शंकाएं हैं।
हमारे देश की शिक्षा व्यवस्था लगभग पूरी तरह अंग्रेजी भाषा पर आधारित है। हिन्दी अथवा अन्य प्रादेशिक भाषा-माध्यमों की स्थिति प्रायः सर्वत्र दयनीय है।
संबंधित विद्यालयों के विध्यार्थी चिकित्सा-विषयक संस्थानों तक पहुंच भी पाते हैं इसमें मुझे संशय है। आज के समय में चिकित्सा संस्थनों के प्रायं सभी छात्र अंग्रेजी माध्यम से पहुंचे होते हैं और वही कालान्तर ंमें वहां शिक्षक भी बनते हैं। ये लोग अन्य क्षेत्रों के विशेषज्ञों की भांति सामान्य बोलचाल में भी हिन्दी नहीं बोल पाते। तब कक्षा कार्य हिन्दी में कैसे कर पाएंगे यह प्रशन मेरे सामने हैं। क्या वे एवं उनके छात्र ‘ हिन्दी’’सीखने को तैयार होंगें और हिन्दी में पढ़ेंगे/पढ़ाएंगे?
दूसरा सवाल तकनीकी पारिभाषिक शब्दोंं का है। जो शब्द सरकारी शब्दावली आयोग ने सुझाए हैं उनका प्रयोग करता कौन है? अब तो आम मरीज तक अतिसामान्य शब्दों को भूलते जा रहे हैं, यथा बुखार (टेम्परेचर), वजन (वेट), ऊंचाई/लंबाई (हाइट), यकृत/जिगर (लिवर) आदि।
हिन्दी में किताब लिखना आसान है, किंतु कक्षा में करीब-करीब धाराप्रवाह बोल पाना हम हिन्दी-भाषियों (?) के लिए आसान नहीं। संकल्प का अभाव स्थिति को और भी गंभीर बना देता है।
#योगेंद्र जोशी

0 0

matruadmin

One thought on “‘मेडिकल की पढ़ाई हिंदी में’

  1. भारतीय भाषा प्रेमियों को इन विषयों पर अपना अभिमत प्रस्तुत करना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

ललनाओं हो जाओ तैयार

Sat Jun 2 , 2018
ललनाओं  हो जाओ तैयार। अब आई युद्व की बारी ।। क्षत्राणियों के खून मे उमड़ रहा है जोश। हवाएं भी झूम-झूम, गा उठी मदहोश । दुश्मन के ठिकानों पर, हम करें वार पर वार। ललनाओं हो जाओ तैयार । हाथों में चूड़ियों के साथ , अपने खड्ग थाम लो रानी […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।