महत्वपूर्ण सूचना

असंयमितता, अनियमितता और अभ्रद्रता के चलते कुछ लोगों को संस्थान से बाहर कर दिया गया है| मूलत: मातृभाषा.कॉम का मालिकाना हक व संस्थापन डॉ.अर्पण जैन ‘अविचल’ द्वारा किया गया है| मातृभाषा.कॉम सहित हिन्दीग्राम, अन्तराशब्दशक्ति व मातृभाषा उन्नयन संस्थान भी उन्हीं के निर्देशन व डॉ.प्रीति सुराना जी के साथ से संचालित है | कुछ लोगो द्वारा रचनाकारों में भ्रम फैलाया जा रहा है कि ‘वे हिन्दी को राजभाषा से राष्ट्रभाषा की ओर ले जाने के लिए कार्य कर रहे हैं, और इसलिए आर्थिक सहयोग भी मांग रहे है, तो आपका दायित्व ये बनता है कि उनसे पूँछे कि उन्होंने हिन्दी के लिए क्या किया है ?
मातृभाषा.कॉम व हमारे अन्य प्रकल्प से उनका कोई संबध नहीं है | यदि आप भी मातृभाषा.कॉम, हिन्दीग्राम, अन्तरा शब्दशक्ति या मातृभाषा उन्नयन संस्थान के भ्रम चलते उनसे कोई भी व्यवहार करते है, आर्थिक या अन्य तो इसके उत्तरदायी आप होंगे|
और यदि कोई हमारे नाम का दुरूपयोग करते, पूर्व में संस्थान के प्रकाशित समाचारों का प्रचार माध्यम में भी उपयोग करते पाया गया तो उसके विरुद्ध कानूनन कार्यवाही की जाएगी |

*आज्ञा से,*
*डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’*
*संस्थापक- मातृभाषा.कॉम*
*सम्पर्क- ७०६७४५५४५५

FB_IMG_1521169771723

About the author

(Visited 35 times, 1 visits today)
Please follow and like us:
0
http://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2018/03/FB_IMG_1521169771723.jpghttp://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2018/03/FB_IMG_1521169771723-150x150.jpgmatruadminUncategorizedअभियानआंदोलनखबरेंमातृभाषामहत्वपूर्ण सूचना,मातृभाषा,मातृभाषा उन्नयन संस्थान,मातृभाषा. कॉम,हिन्दीग्राममहत्वपूर्ण सूचना असंयमितता, अनियमितता और अभ्रद्रता के चलते कुछ लोगों को संस्थान से बाहर कर दिया गया है| मूलत: मातृभाषा.कॉम का मालिकाना हक व संस्थापन डॉ.अर्पण जैन 'अविचल' द्वारा किया गया है| मातृभाषा.कॉम सहित हिन्दीग्राम, अन्तराशब्दशक्ति व मातृभाषा उन्नयन संस्थान भी उन्हीं के निर्देशन व डॉ.प्रीति सुराना जी के साथ...Vaicharik mahakumbh
Custom Text