काश कि ऐसा हुआ न होता

Read Time3Seconds
om agraval
जीत-हार की बात नहीं संघर्ष अभी भी जारी है,
तब भी सीता हारी थी तो अब भी सीता हारी है।
कैसे कह दूँ रावण हारा बस उसके जल जाने से,
बचे हुए हैं कितने रावण कर्मोँ का फल पाने से।
कब तब ऐसे रावण को ये देश रहेगा ढोता,
काश कि ऐसा हुआ न होता॥
हे राम कहो क्या सचमुच तुमने रावण को ही मारा था,
या फिर अपने निहित स्वार्थ में व्यक्ति एक संहारा था।
शायद जीत तुम्हारी अब भी इसीलिए  शर्मिंदा है,
तुमने रावण मारा लेकिन रावण अब भी जिन्दा है।
दुष्कर्मों के बीज सदा ही कौन रहा है बोता,
काश कि ऐसा हुआ न होता॥
सीताओं का हरण आज भी खूब यहाँ पर होता है,
शासन और प्रशासन भी तो कुम्भकर्ण-सा सोता है।
कर्तव्यभाव क्यूँ कुंद हुए हैं,संस्कार क्यूँ रोता,
काश कि ऐसा हुआ न होता॥
छल-दंभ द्वेष-पाखण्ड झूठ का देखो बजता डंका है,
फूली और फली ये कैसी अहंकार की लंका है।
हनूमान-सा हममे कोई आज नहीं क्यूँ होता,
काश कि ऐसा हुआ न होता
स्वर्ण हिरण बन जाने कितने गली-गली में डोल रहे,
कौव्वों जैसी नीति-नियत पर कोयल जैसा बोल रहे।
कब तक धैर्य रखेगा पौरुष,ये धैर्य नहीं क्यूँ खोता,
काश कि ऐसा हुआ न होता॥
जब तक नारी नहीं सुरक्षित जब तक नारी हारी है,
जीत-हार की बात नहीं,संघर्ष अभी भी जारी है।
मौन समर्थन जैसे लगता,अंतस क्यूँ न रोता,
काश कि ऐसा हुआ न होता॥
           #ओम अग्रवाल ‘बबुआ’
परिचय: ओमप्रकाश अग्रवाल का साहित्यिक उपनाम ‘बबुआ’ है। मूल तो राजस्थान का झूंझनू जिला और मारवाड़ी वैश्य हैं,परन्तु लगभग ७० वर्षों पूर्व परिवार यू़.पी. के प्रतापगढ़ जिले में आकर बस गया था। आपका जन्म १९६२ में प्रतापगढ़ में और शिक्षा दीक्षा-बी.कॉम. भी वहीं हुई। वर्तमान में मुंबई में स्थाई रूप से सपरिवार निवासरत हैं। संस्कार,परंपरा,नैतिक और मानवीय मूल्यों के प्रति सजग व आस्थावान तथा देश धरा से अपने प्राणों से ज्यादा प्यार है। ४० वर्षों से  लिख रहे हैं। लगभग सभी विधाओं(गीत,ग़ज़ल,दोहा,चौपाई, छंद आदि)में लिखते हैं,परन्तु काव्य सृजन के साहित्यिक व्याकरण की न कभी औपचारिक शिक्षा ली,न ही मात्रा विधान आदि का तकनीकी ज्ञान है।
काव्य आपका शौक है,पेशा नहीं,इसलिए यदा-कदा ही कवि मित्रों के विशेष अनुरोध पर मंचों पर जाते हैं। लगभग २००० से अधिक रचनाएं लिखी होंगी,जिसमें से लगभग ७०० के करीब का शीघ्र ही पाँच खण्डों मे प्रकाशन होगा। स्थानीय स्तर पर ढेरों बार सम्मानित और पुरस्कृत होते रहे हैं।
आजीविका की दृष्टि से बैंगलोर की निजी बड़ी कम्पनी में विपणन प्रबंधक (वरिष्ठ) के पद पर कार्यरत हैं।
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

झुलस रहा गणतंत्र,यह राष्ट्र धर्म नहीं

Sat Jan 27 , 2018
जहाँ हुए बलिदान प्रताप और जहाँ पृथ्वीराज का गौरव हो,जहाँ मेवाड़ धरा शोभित और जहाँ गण का तंत्र खड़ा हो,ऐसा देश अकेला भारत है,परन्तु वर्तमान में जो हालात विश्वपटल पर पहुँचाए जा रहे हैं,वो भारत का असली चेहरा नहीं है।  बलिदानों और शूरवीरों की धरा पर बच्चों पर हमले,राष्ट्र के […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।