देश बदल रहा है…

1
Read Time4Seconds

mahak varma

मेरा देश बदल रहा है,
न जाने किस दिशा में बढ़ रहा है।
क्या-कुछ सोच कर गए थे हमारे देश के नेता,
दुनिया में नाम रोशन करेंगे हमारे देश के बेटे।
मगर यह तो घूम रहे इतिहास की चादर लपेटेll

क्या जानें यह लोग,
किस तरह यह स्वर्णिम इतिहास गढ़ा होगा।
कुछ नहीं जानते ये निरे मूर्ख,
क्या इन्होंने कभी इतिहास भी पढ़ा होगाll

जिस वीरांगना ने इतिहास में अपना परचम लहराया था,
जौहर करके जिसने,अपना जौहर दिखलाया था।
रक्षा करने उतरे हैं ये,उस मां पदमावती की,
रक्षा भी अब कर लो तुम,उस औरत-बहन-बेटी कीll

जब हुआ था उन पर अत्याचार,
कहाँ थे तुम्हारे शिष्टाचार।
न जाने उस बेगुनाह को,
कितना उन दरिंदों ने नोंचा होगा।
उस वक्त तुम ने उसका,
क्या इक आंसू भी पोंछा थाll

कितनी उन्नति हुई है मेरे देश की,
जहां गरीब भूखा सो रहा है,
वहीं किसी की गर्दन काटने को पैसे बंट रहे हैं।
जागो देश के पूतों,
सीमा पर सैनिकों के सिर कट रहे हैंll

सच में मेरा देश बदल रहा है,
न जाने किस दिशा में बढ़ रहा हैll

                 #महक वर्मा

परिचय : महक वर्मा की जन्मतिथि-३ मार्च १९९९ तथा जन्मस्थान-इंदौर हैl आपका निवास शहर भी इंदौर(मध्यप्रदेश) हैl शिक्षा-बीए(पत्रकारिता एवं जनसंचार)हैl लेखन का उद्देश्य-अपनी भावनाओं एवं विचारों को शब्दों में पिरोकर लोगों तक पहुंचाना है।

0 0

matruadmin

One thought on “देश बदल रहा है…

  1. Excellent poem written by Mahak!!! Depicts the true, harsh reality of today’s society!
    Mahak will surely soar high with her pen! I wish All the very Best in her endeavors!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

`खिचड़ी` राष्ट्रीय संस्कृति घोषित हो

Thu Nov 23 , 2017
बड़ी ख़ुशी की बात हे कि,खिचड़ी को राष्ट्रीय आहार घोषित किया जा रहा हैl घर में जब भी खिचड़ी बनती तो पापा हमेशा कहते थे-अपने घर में क्या बनता है,सबको रोज नहीं बतानाl नहीं तो मोहल्ले वाले कहेंगे `खिचड़ी वाले` अंकल जी,क्योंकि मोहल्ले में कुछ लोग तो खिचड़ी के नाम […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।