माँ से बिटियाँ का स्नेह होता है लाजवाब बिटियाँ को सुलाती अपने आँचल में लगता है जैसे फूलों के मध्य पराग हो झोली में । माँ की आवाज कोयल सी और बिटियाँ की खिलखिलाहट पायल की छुन -छुन सी लगता है जैसे मधुर संगीत हो फिजाओं में । माँ तो […]

मुझे बूढ़ी आँखों मे आँसू देखना अच्छा नहीं लगता मुझे उनके कंधों पर बोझ रखना अच्छा नहीं लगता आशाओं में गुजारी जिंदगी पूरी न हो मुझे अच्छा नहीं लगता सहारे की जरूरत हो सहारा ना दे मुझे अच्छा नहीं लगता उनके पास बतियाने का समय ना हो मुझे अच्छा नहीं […]

डरी -डरी सी दहशत से भरी जिन्दगी पग -पग पर  भय से भरी जिन्दगी मुड -मुड सी पलट से  भरी जिन्दगी सूनी राहों पर दबोची जा रही जिन्दगी हैवानियत  से सनी जा रही जिन्दगी हर चौराहों पर अब चीख रही जिन्दगी चीखों को रोकों  जरा हैरान है जिन्दगी दुष्कर्मियों पर कसों फंदा रो […]

हिंदुस्तान सोश्लिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन के आगरा वाले मुख्यालय में चंद्रशेखर आजाद, भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु, बटुकेश्वर दत्त ,शिव वर्मा, विजय कुमार सिन्हा, जयदेव कपूर ,डॉक्टर गया प्रसाद, विश्वनाथ वैशंपायन, सदाशिव राव मलकापुरकर, आदि दल के सभी सक्रिय सदस्य बैठे हैं। हंसी मजाक चल रहा हैं। हंसी मजाक का विषय है […]

बांसुरी वादन से खिल जाते थे कमल  वृक्षों से आँसू बहने लगते स्वर में स्वर मिलाकर नाचने लगते थे मोर गायें खड़े कर लेती थी कान पक्षी हो जाते थे मुग्ध ऐसी होती थी बांसुरी तान नदियाँ कलकल स्वरों को बांसुरी के स्वरों में मिलाने को थी उत्सुक साथ में […]

जल कहता है इंसान व्यर्थ क्यों ढोलता है मुझे प्यास लगने पर तभी तो  खोजने लगता है मुझे । बादलों से छनकर मै जब बरस जाता सहेजना ना जानता इंसान इसलिए तरस जाता । ये माहौल देख के नदियाँ रुदन करने लगती उनका पानी आँसुओं के रूप में इंसानों की […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।