कहीं खो न जाए हिंदी

0 0
Read Time2 Minute, 26 Second

amit chandrvanshi
संस्कृत से आई है हिंदी,
हिन्द की पहचान है हिंदी।
जनमानस की भाषा है,सरलता है;
हमारी `मातृभाषा` है,ममतामयी हैll

क्या थी हिंदी? कहाँ से आई हिंदी?,
बनकर रह गई हम सबकी जान।
पहचान स्वाभिमान बनकर है,
चारों ओर है एकता का बंधन हैll

प्यार,एकता,शांति की अनूठी छाप है,
`राष्ट्रभाषा` भारत के दर्शन कराती है।
अनेकता को एकता में बांधती है,
दशो-दिशा में खुशबू बिखेरती हैll

अत्याचारों का जब हुआ प्रहार,
कलम उठाई साहित्यकारों ने।
देश में अराजकता फैली थी,
तब शांति का पाठ दिया हिंदी नेll

मुझसे पहचान है आप सबकी,
मेरे बिना कुछ नहीं है संस्कृति।
गर जिंदगी में मैं खो गई कहीं?
डूब जाएगी हिन्द की संस्कृतिll

कम समय में मैं बूढ़ी हो गई,
कहने को बहुत,पर शिकायत किससे?
दूजा व्यवहार आप सब कर रहे,
फिर हाथ सामने फैलाऊँ किसके?

अंग्रेजी,जर्मन,फ्रेंच का जमाना है,
तकनीकी में आगे बढ़ना है।
मुझे रौंदकर आगे बढ़ जाओगे,
पर संस्कृति खतरे में ले जाओगेll

क्या बना बैठे? कहते हो `मातृभाषा`,
करते हो दूजा व्यवहार।
मुझे अभी जन-जन में फैलना है,
चाहिए मुझे मेरा अधिकारll

क्यों नहीं जब रशिया में रशियन,
चाइना में चीनी,अमेरिका में अमेरिकन
अंग्रेजी,फिर मुझे हिन्दी में ज्ञान
देने की इजाजत क्यों नहीं?

शिकायत बहुत है जाऊं किधर?
खोने का डर सता रहा है मुझे।
हिन्द की शान हिंदी आजादी तक थी?
अब क्यों नहीं? मैं तो हमेशा
एकता का सन्देश दे जाती हूं,
फिर मेरे साथ ही ऐसा
दूजा व्यवहार क्यों…?

                                                        #अमित चन्द्रवंशी ‘सुपा’

परिचय:अमित चन्द्रवंशी ‘सुपा’ नाम से लिखते हैं। १८ वर्ष उम्र और अभी विद्यार्थी ही हैं। आपका निवास छत्तीसगढ़ के रामनगर(कवर्धा) में है।कविता,कहानी,गीत,गजल और निबन्ध आदि भी लिखते हैं। 

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

मुखौटा

Sat Sep 16 , 2017
आँखों पर आँखों का पहरा है,                                                                            आँखें ही चुरा रहा हूँ।      […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।