रह जाएगी…

0 0
Read Time1 Minute, 24 Second
ajay jayhari
बात लबों तक तो आएगी,
पर दबी रह जाएगी।
गर शब्दों के लिए
जगह न होगी महफिल में
कविताएँ शोक मनाएंगी,
ग़ज़ल दबी रह जाएगी।
आलम ये होगा दुनिया का
मन्दिर पडे़ होंगे खाली,
मूर्ति मिट्टी में दबी रह जाएगी
कोई नहीं जाएगा,
किसी मय्यत पर रोने
कांधा पाने की हसरत
दबी रह जाएगी।
तमन्ना थी कि बच्चे
होंगे बुढ़ापे का सहारा,
लात मारकर निकालेंगे घर से
अपनों की कमी रह जाएगी।
शर्म आएगी सभी को
वक्त की चादर पर गर्दिश की
धूल जमी रह जाएगी।
कुछ और कहने की
जुर्रत नहीं ‘जयहरि’
वक्त सभी का आएगा एक दिन,
साँसें थमी रह जाएगी॥
                                                       #अजय जयहरि
परिचय : अजय जयहरि का निवास कोटा स्थित रामगंज मंडी में है। पेशे से शिक्षक श्री जयहरि की जन्मतिथि १८ अगस्त १९८५ है। स्नात्कोत्तर तक शिक्षा हासिल की है। विधा-कविता,नाटक है,साथ ही मंच पर काव्य पाठ भी करते हैं। आपकी रचनाओं में ओज,हास्य रस और शैली छायावादी की झलक है। कई पत्र-पत्रिकाओं में कविताओं का प्रकाशन होता रहता है।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

नमन मेरा

Thu Sep 7 , 2017
  प्रतिदिन नमन मेरा प्रथम गुरूवर को, नमन मेरा प्रतिदिन अंतिम गुरूवर को॥ गुरू ज्ञान है गुरू मान है गुरूओं कारण ही पहचान है, दिया न होता ज्ञान गुरू ने ज्ञान रहित होता अन्ध मेरा मन, चक्षु रहित पशुवरत होता तन॥ प्रतिदिन नमन मेरा प्रथम गुरूवर को, नमन मेरा प्रतिदिन […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।