३ फीसद जमीन,१७ फीसद जन

0 0
Read Time5 Minute, 17 Second
hemendra
बेलगाम बढ़ती आबादी एक विश्वव्यापी समस्या है, खासतौर पर अविकसित और विकासशील देशों के लिए यह और भी अधिक गंभीर है। विशेषतः भारत में वृद्धि और विकास को हानि पहॅुंचाते हुए तीव्र गति से बढ़ती जनसंख्या परेशानी का सबक बन चुकी है। उधेड़बुन में हम १.३० अरब हो चुके हैं। इतर,हमारे पास संपूर्ण भू-भाग का केवल ३ अंश है,लेकिन हम जहान  की कुल जनसंख्या के १७ फीसद हैं। विश्व में हम सर्वाधिक जनसंख्या के मामले में दूसरे क्रम में हैं,वहीं धरा धारिता में सातवॉं हैं। जनसंख्या दर अमूमन २ प्रतिशत प्रति वर्ष है,इस लिहाज से हर साल एक आस्ट्रेलिया पैदा कर रहे हैं। गति इसी प्रकार रही तो हम निश्चित तौर पर २०५० तक चीन को पछाड़ देगें,यह आंकड़े आह्लादित करते हैं। कमोबेश इतने जन इतनी वसुंधरा में कैसे विराजेंगे,क्योंकि जन-जन की भांति धरती तो नहीं बढ़ाई जा सकती,यह तो जितनी की उतनी ही रहेगी। 
बावजूद जनसंख्या बढ़ाने में विविध आयामों की विशेष भूमिका है जिसमें रुढ़िवादिता,वंशावली और समय पूर्व विवाह जैसी बेतुकी परम्परा का खासा योगदान है। यह देखा गया है कि,देर से हुई शादी जैसे २० या अधिक उम्र वाली लड़की की तुलना में कम उम्र में हुई शादी वाली लड़की के अधिक बच्चे होते हैं। भारत में सभी समुदायों और धर्म में लड़के की प्राथमिकता भी जनसंख्या बढ़ोतरी का प्रमुख व पहला कारक नजर आता है। जागरूकता,अज्ञानता उच्च जन्म दर का दूसरा कारक है। जनसंख्या अनियोजन के मामले में निरक्षर महिलाओं के पास शिक्षित महिलाओं के मुकाबले अधिक बच्चे होते हैं। निर्धनता को बेपनाह आबादी के मुख्य कारण में गिना जा सकता है। निर्धन परिवारों में बच्चे  परिवार की आय में योगदान करने के लिए अतिरिक्त हाथों के रूप में देखे जाते हैं,इसीलिए आमतौर पर गरीब लोग अधिक बच्चों की और अग्रसर होते हैं। वे सामान्यतः उनकी शिक्षा,स्वास्थ्य अथवा पालन-पोषण में अधिक निवेश नहीं करते,ऐसा करना बेमतलब समझते हैं। ये बच्चे आजीवन निरक्षर और अकुशल श्रमिक रहते हैं,और अपनी जीवन की परिस्थितियों को सुधारने में सदा अक्षम रहते हैं। 
कदमताल,आबादी की चपेट में समाज के सभी वर्ग प्रकृति का विदोहन और आर्थिक लाभों की पहुॅंच से दूर होते जा रहे हैं। साथ ही पर्यावरण,आर्थिक,शैक्षणिक,औद्योगिक और सामाजिक विकास की गाथा में अनेक बाधाएं सामने आ रही हैं। इससे संसाधनों की बढ़ी हुई मॉंगों,सुविधाओं और सेवाओं के रूप में रोटी,कपड़ा,मकान,स्वास्थ्य,शिक्षा और रोजगार आदि आधारभूत आवश्यकताओं को सुनिश्चित करने के लिए दबाव बढ़ता जा रहा है। फलस्वरूप धरती के दोहन से एक दूषित समाज और प्रदूषित वातावरण का निर्माण हो रहा है। भलाई के वास्ते महिला-पुरूष दोनों को समान रूप से दवाई, पढ़ाई और कमाई के साधन उपलब्ध करवाने ही होंगे।
  अलबत्ता,अनाप-शनाप जनसंख्या विस्फोट ने प्राकृतिक,सामाजिक-आर्थिक विकास की चाल को बुरी तरह से प्रभावित किया है। अतः जनसंख्या नियंत्रण और स्थिरीकरण के लिए जनसंख्या संबंधी समस्याओं को सभी स्तरों में निराकृत करने की जरूरत है। तभी ३ फीसद जमीन के मुकाबले १७ फीसद जन के औसत को कम किया जा सकता है। यही हम सबका नैतिक दायित्व ही नहीं,कर्तव्य है कि इसे अमलीजामा पहनाने में कोई कोर-कसर न छोड़ें। पहल से जन और जमीन का संतुलन बना रहेगा,नहीं तो अनावश्यक बोझिल दबाव से आने वाले समय में चुटकीभर धरा में मुट्ठीभर लोगों का रहना नामुमकिन हो जाएगा। यह जनसंख्या विस्फोट की खुल्ली-खुल्ली संभावी आहट है, यथेष्ट छोटा परिवार,सुखी परिवार और विकसित देश की मीमांसा को अपनाना ही एकमेव विकल्प है। 
                                                                                    #हेमेन्द्र क्षीरसागर

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

अस्तित्व

Mon Jul 17 , 2017
यूँ तो सारा घर है मेरा, पर, घर के एक खाली कोने पर, अपना अधिकार जताया हैl खोई थी अपने ही घर में, जाने कितने वर्षों तक, पर, घर के एक खाली कोने में अब अपना स्थान बनाया हैl अपने घर में अपने होने की, स्वीकृति दर्ज करा ली हैl […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।