मेरी प्रार्थनाओं में हो तुम..

Read Time3Seconds

cropped-cropped-finaltry002-1.png

जब से भावनाओं ने शब्द धारण किए,
तब से अंतस तल में शुभ हेतु
गूँजती रही जो प्रार्थनाएँ
वो अब भी हैं,
मेरे भीतर के अंधेरे-उजाले में
सधती,मंत्र-सी होती।

जिसमें धीमे-धीमे समय के साथ
जुड़ते रहे कुछ नाम,
जो ज़ेहन में सगों की तरह
बेहद घनिष्ठता,अभिन्नता और आस्था से हुए।

उसी कड़ी में तुम्हारा होना हुआ,
भीतरतम वृत्त के केन्द्र की तरफ
बहना तुम्हारे अस्तित्व का
जैसे घंटियों का स्वर फैलता है
मानस के देवताओं की ओर।

जाने-अनजाने तब से ही
तुम्हारी प्रार्थना में जुड़ी हथेलियाँ,
मूंदी आँखें,बुदबुदाते होंठों के मध्य
स्वयं को ढूँढ़ता रहा,
मिलाता रहा प्रार्थनाएँ हमारी,
तब नहीं देख पाया,भीतर प्रार्थनाएँ उतरते
मैं प्रार्थना पूर्णतया नहीं हुआ..
हाँ,फैला जरूर,अगरबत्ती की दिशा-सा
संभवतः,उन क्षणों में महका हुआ
फिर भी महक दिशा-सा
अभिन्न न हो सके,मैं और प्रार्थना।

क्षणों के अंतराल में,
बाहर वायु-सा,भीतर साँस-सी
तुम रही,तुम हो,
मगर इसी मौलिक आवृत्ति से
जाना हूँ,एक तरीका
जानने का स्वयं को
देखा,
‘मुझको` तुम होते
‘तुमको` मैं होते
और प्रार्थनाओं को उतरते।

अब,
मुझ और प्रार्थना के अंतराल में
सेतु-सी तुम,
उतरती हैं प्रार्थनाएँ
मेरी पवित्रता के पायदान से
तुमसे हो-होकर,

हाँ,मेरी प्रार्थनाओं में हो तुम।।

#सुजश कुमार शर्मा

परिचय : सुजश कुमार शर्मा छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में अनुवादक(राजभाषा विभाग-महाप्रबंधक कार्यालय,दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे) के रूप में कार्यरत हैं। जिला-गरियाबंद (छत्तीसगढ़)में आपका रहना है।आपका जन्म १९७९ में हुआ है।आपकी शिक्षा एएमआईई-(मेकेनिकल इंजीनियरिंग) और एमए(हिन्दी सहित अंग्रेजी और दर्शनशास्त्र)है। सम्मान के रूप में आपको काव्य संग्रह ‘कुछ के कण’ के लिए भारत सरकार के रेल मंत्रालय द्वारा ‘मैथिलीशरण गुप्त पुरस्कार’ के साथ ही उपन्यास ‘प्रार्थनाओं के कुछ क्षणगुच्छ’ के लिए रेल मंत्रालय द्वारा ‘प्रेमचंद पुरस्कार’ और कविता ‘तुम आई हो !’ के लिए रायपुर से भी सम्मानितकिया गया है।

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

तन्हा जीवन

Fri Jun 23 , 2017
  यह जीवन बड़ा अलबेला है,अपनों का यहाँ झमेला हैl यहाँ नित काफिले सजते हैं,आदमी फिर भी अकेला हैll इस धरती पर जब तू आया,देखा तन्हा तू रोया हैl भाँति-भाँति के रिश्ते बना,अजब-सा खेल खेला हैll यह जीवन बड़ा………..l   जिसने भी तुझको जन्म दिया,पाल-पोसकर बड़ा कियाl जब बुढ़ापा आया […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।