अहिल्या पुस्तकालय में इंदौर गौरव दिवस के आयोजन हेतु बैठक संपन्न

0 0
Read Time2 Minute, 29 Second

इन्दौर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मंशा अनुसार जिला प्रशासन इंदौर द्वारा” इंदौर गौरव दिवस “मनाया जाना तय किया गया। क्षेत्रीय ग्रंथपाल एवं परामर्शदात्री समिति की सचिव श्रीमती लिली डावर ने बताया कि आज कला एवं साहित्य विधा के लिए शासकीय श्री अहिल्या केंद्रीय पुस्तकालय में तीन दिवसीय कार्यक्रम आयोजित करने हेतु एक बैठक का आयोजन किया गया,जिसकी अध्यक्षता परामर्शदात्री समिति के उपाध्यक्ष वरिष्ठ पत्रकार श्री कृष्ण कुमार अस्थाना जी ने की, विशेष आमंत्रित सदस्य वरिष्ठ समाज सेवी डॉ अनिल भंडारी थे।
इस अवसर पर इंदौर शहर की कला एवं साहित्य से जुड़ी अनेक संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने आयोजन हेतु अपने अपने विचार रखे। हिंदी परिवार के अध्यक्ष श्री हरे राम बाजपेई, साहित्य संगम के श्री सदाशिव कौतुक , हिंदी परिवार के सचिव श्री संतोष मोहंती, वरिष्ठ हास्य रचनाकार श्री प्रदीप नवीन, मातृभाषा उन्नयन संस्थान के अध्यक्ष डॉ अर्पण जैन ‘अविचल’, विचार प्रवाह साहित्य मंच के संयोजक श्री मुकेश तिवारी,अध्यक्ष श्रीमती सुषमा दुबे, ओपन माइक की संस्थापक रचनाकार श्रीमती संध्या राय चौधरी, शुभ संकल्प की संस्थापक डॉ सुनीता श्रीवास्तव, वामा साहित्य मंच की श्री मती निरुपमा नागर,
संगीत,नाटक मर्मज्ञ शैलेन्द्र शर्मा एवं पुस्तकालय परिवार के सदस्य श्रीमती वर्षा रघुवंशी,सुश्री रागिनी गौड़, श्रीमती पूर्णिमा पांचाल, श्री रत्नेश देवलास,श्री अखिलेश आसिरवाला,श्री रोहित खेर, श्री सौरभ सिरसाट आदि उपस्थित रहे।

matruadmin

Next Post

खामोश-सा एक बादल

Fri May 27 , 2022
कभी खामोश सा एक तनहा सुरमई बादल दुआओं सा आँचल से लिपट जाता है कभी सितारों जड़ी मखमली रात के गालों पर नज़र का टीका लगा जाता है झिलमिल चांदनी का एक प्यारा सा कतरा संदली हवाओं के झोंकों संग तुम्हारी याद दिलाता है बरसती बारिश की रिमझिम बूंदों में […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।