जिन्दगी क्या है

Read Time0Seconds

हर रात सुलझा कर सिरहाने रखते है जिंदगी।
सुबह उठते ही उलझी पड़ी मिलती है जिंदगी।।

सुलझा सुलझा कर थक जाते हैं हम ये जिंदगी।
थकती नहीं ये जिंदगी,सुला देती हमें ये जिंदगी।।

बेवफ़ा हम नहीं,बेवफ़ा हो जाती है ये जिंदगी।
भरोसा इस पर कैसे करे,बे भरोसे है ये जिंदगी।।

रंक से राजा बनाए राजा से रंक बनाती है ये जिंदगी।
पल में राजमहल गिराए,पल मे बना देती हैं ये जिंदगी।।

समझ सका न कोई इसको समझाती सबको ये जिंदगी।
समझदार को भी,बेवकूफ़ बनाती सबको हमेशा ये जिंदगी।।

तराशते रहते है कैसे सफल बने हमारी ये जिंदगी।
तराशते तराशते थक गए सफल हुई न ये जिंदगी।।

आर के रस्तोगी
गुरुग्राम

1 0

matruadmin

Next Post

विभिन्न विषयों पर देश में सर्वाधिक नवाचार डाॅ दशरथ मसानिया के नाम

Thu Apr 8 , 2021
म प्र आगर मालवा के शासकीय उत्कृष्ठ उ मा वि मे कार्यरत साहित्यकार, योगी, लगनशील, परिश्रमी, प्रयोगधर्मी, नवाचारी शिक्षक डाॅ दशरथ कुमार गवली ‘मसानिया’ का जन्म 13 मई 1966 को एक ग्वाला समाज के निर्धन परिवार में हुआ। जन्म के दो वर्ष बाद ही पिताजी ने संयास ले लिया,अतः माता […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।