बुजुर्गों का अपमान

0 0
Read Time3 Minute, 27 Second

हमारी अनेकों पुण्यताओं को एक पाप भी कलुषित कर जाता है, कुछ ऐसा ही इंदौर शहर के साथ हुआ। देश में नंबर 1 आने के यश व कीर्ति को पूरे शहर ने अपनी जिम्मेदारी समझकर स्वीकार किया। स्वच्छता लोगों के व्यवहार में आने लगी। मानसिकता में यह परिवर्तन देश में भी व्यापक रूप से देखा गया। परन्तु इस बार देश का नबंर 1शहर किसी और कारण से चर्चा में आ गया।

इंदौर नगर निगम द्वारा शहर के आश्रय हिन वृद्धों को कचरा वाहन में बैठाकर शहर से बाहर छोड़कर आने पर पूरे देश में इस कृत्य की आलोचना हुई। इंदौर नगर पूरे देश में स्वच्छता के नाम से जाना जाता है परन्तु नगर निगम कर्मियों के द्वारा जानवरो की तरह बुजुर्गों को इंदौर से बाहर क्षिप्रा नगर में छोड़े जाने की वीडियो सोशल मीडिया में वायरल होने के बाद न्यूज़ चैनल, सोशल मीडिया, जन सामान्य में इस घटना का विरोध बढ़ने लगा। जब नगर निगम की यह हरकत की सूचना उच्च अधिकारियों तक पहुँची तो उनके भी कान खड़े हो गए। जिस इंदौर को देश का सिरमौर बनाने में पुरे इंदौर के प्रशासनिक अधिकारी व नगर निगम लगा रहता है, उसकी इस प्रकार की छवि कुछ निगम कर्मियों की अल्प विकसित मानसिकता के कारण मीडिया जगत में आना दुर्भाग्यपूर्ण है। इन आलोचना के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह जी ने तुरंत कार्यवाही करते हुए नगर निगम उपायुक्त प्रताप सोलंकी को निलंबित कर दिया। वहीं दो अन्य निगम कर्मियों को भी बर्खास्त कर दिया गया है।

उच्च अधिकारियों ने इसे अपनी जिम्मेदारी मानते हुए। आवश्यक निर्देश निगम अधिकारियों को दिए। क्योंकि सुशासन व्यवहार में दिखना चाहिए। इसके लिए आवश्यक है कि अधिकारियों व कर्मियों का व्यवहार जन सामान्य के प्रति स्नेह व सम्मान का हो। कलेक्टर इंदौर मनीष सिंह ने सपत्नीक खजराना गणेश में जाकर इस कृत्य के लिए भगवान की शरण में पहुँचे। उन्होंने विघ्न हर्ता से शीश झुका कर बुजुर्गों के अपमान पर क्षमा मांगी। क्योंकि अधिकारी होने के नाते हमारी जिम्मेदारी बनती है, निगम कर्मियों ने जो दुर्व्यवहार किया वह गलत था। इस अवसर पर आईजी हरिनारायणचारी मिश्रा भी सपत्नीक उपस्थित थे। आशा है अब मध्यप्रदेश में इस तरह का व्यवहार बुजुर्गों के साथ कभी ना हो।

मंगलेश सोनी
युवा लेखक व स्वतंत्र टिप्पणीकार
धार (मध्यप्रदेश)

matruadmin

Next Post

फिर लौट आई मन मोह लेने वाली तरंग

Mon Feb 1 , 2021
तरंग 2021 ओपन माईक का आयोजन हुआ इंदौर। कवि अवनीश पाठक ‘सूर्य’ जी द्वारा स्थापित दी इमेजिनर्स स्टेज साहित्य समूह इंदौर प्रकोष्ठ द्वारा रुट 60 कैफ़े, कान्यकुब्ज नगर में तरंग 2021 ओपन माईक का आयोजन किया गया जिसमे शहर के नवोदित कवियों , कलाकारों ने अपनी रचनाओ से सभी को […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।