कोरोंना काल का दशहरा

Read Time0Seconds

इस बार रावण दशहरे पर आया,
राम से बोला और वह चिल्लाया।
पहले अपने मुख पर मास्क लगाओ,
फिर आकर मुझ पर आकर बाण चलाओ।।

कोरोना काल है,मेरी भी है मजबूरी,
मुझसे रक्खो सब दो गज की दूरी।
मेरे निकट जो भी कोई आ जायेगा,
काल का ग्रास वह एक दम बन जायेगा।।

अबकी बार लंका भी न जल पायेगी,
क्योंकि उससे भी दूरी रक्खी जायेगी ।
अगर लंका को तुमने जलाना है,
दूर से उस पर हथगोले चलाना है।।

इस बार मेघनाथ शक्ति बाण नहीं चलायेगा
केवल कोरोना बाण से ही काम चलायेगा।
जिससे लक्ष्मण भ्राता मूर्छित हो जायेगा।।
और हनुमान चीन से वैक्सीन लायेगा।।

इस बार कुंभकर्ण को भी न मार पाओगे,
कोरोना के कारण वह सोता ही रह जायेगा।
रही बात लंका के दूसरे राक्षसों की,
वे तो कोरोना के कारण पहले ही मर जाएंगे।।

इस बार तुम मुझे न मार पाओगे,
पर मेरा दाह संस्कार भी न कर पाओगे।
इस बार कोरोना वाले ही मुझे ले जायेंगे,
वे ही मेरा अंतिम संस्कार कर पायेंगे।।

इस बार विभीषण का राजतिलक न हों पायेगा,
क्योंकि वह डर के मारे राम के पास रह जायेगा।
कोरोंना काल में इस तरह भारत में,
बड़े दुःख से दशहरे को मनाया जायेगा।।

आर के रस्तोगी
गुरुग्राम

0 0

matruadmin

Next Post

तंत्र साधना का आदर्श स्थान- पाण्डव कालीन बगलामुखी मंदिर

Wed Oct 21 , 2020
मध्य प्रदेश के आगर जिले की नलखेड़ा तहसील जिसकी पहचान पांडव कालिन पीताम्बरा सिद्ध पीठ मॉ बगलामुखी का मंदिर के कारण है। विश्व प्रसिद्ध पीताम्बरा सिद्ध पीठ मॉ बगलामुखी का यह मंदिर शक्ति एवं शक्तिमान के सम्मिलीत प्रभाव से युक्त है। यहॉ पर की जाने वाली साधना आराधना अनंत गुना […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।