हिंदी के अनन्य भक्त,संत विनोबा भावे

Read Time1Second

“मैं दुनिया की सब भाषाओं की इज़्ज़त करता हूं परंतु मेरे देश में हिंदी की इज़्ज़त न हो यह मैं सहन नहीं कर सकता |”
यह उद्गार है उच्च कोटी के विचारक दार्शनिक समाजसेवी एवं सर्वोदय पदयात्रा और भूदान के महान प्रवर्तक संत विनोबा जी के नाम से विख्यात विनायक नरहरि भावे के| इन का जन्म 11 सितम्बर, 1895 को महाराष्ट्र के कुलाबा जिले के गगोडा गांव में हुआ | मात्र 10 वर्ष की आयु में ही उन्होने ब्रह्मचर्य का पालन एवं राष्ट्र की सेवा करने का निश्चय किया जिसका उन्होंने आजीवन पालन किया | 15 वर्ष की उम्र में उन्हें विद्धालय में दाखिला कराया गया | मैट्रिक के बाद वे बड़ोदा काँलेज गये , परंतु जैसे ही उन्होंने यह महसूस किया कि उनके भाग्य में मात्र डिग्री के लिये पढ़ना नहीं लिखा है उन्होंने अपने सर्टिफिकेट जला डाले |
सन्‍ 1916 में महात्मा गांधी के भाषणों से प्रेरित होकर , अपने माता- पिता से पूछे बगैर साबरमती आश्रम में गांधी जी के साथ जुड़ गये | यहीं गांधी जी ने प्यार से उनका नाम “विनोबा” रखा | गांधी जी ने उनके पिता को लिखा – “आपका पुत्र मेरे पास है , उसने इतनी कम उम्र में जो तेज और तप हासिल कर लिया उसे प्राप्त करने में मुझे वर्षों लग गये|”
विनोबा जी का झुकाव आध्यात्मिकता और स्वतंत्रता आंदोलन की तरफ अधिक था | विनोबाजी ने अपने जीवन में सामाजिक, आर्थिक उन्नति के लिये लगातार काम किया| वे उच्चकोटी के मौलिक विचारक और दार्शनिक राष्ट्रवादी होने के साथ साथ अत्यंत कर्मठ, आदर्शवादी और मननशील निबंध लेखक थे| उनके विचार और कार्य हमारी सांस्कृतिक परम्परा “वसुधैय कुटुम्बकम “ के अनुकूल थी | उनकी ये बातें केवल सैद्धांतिक नहीं थी बल्कि उन्होने व्यवहार रूप में भी करके दिखाया था | उन्होंने अपना सारा जीवन गांधीजी के आदर्शों पर बलिदान कर दिया | राष्ट्र भाषा हिंदी और प्रंतीय भाषाओं के वे जबर्दस्त हिमायती थे जिसे उनके निम्न उद्गाररों से समझा जा सकता है|
“ मैंने हिंदी का सहारा न लिया होता तो कश्मीर से कन्याकुमारी और असम से केरल के गांव-गांव में जाकर मैं भूदान-ग्राम दान का क्रांतिपूर्ण संदेश जनता तक न पहुँचा सकता | यदि मैं मराठी भाषा का सहारा लेता तो महाराष्ट्र से बाहर और कहीं काम न बनता | इसी तरह अंग्रेजी भाषा लेकर चलता तो कुछ प्रांतों में काम चलता ,परंतु गांव गांव में जाकर क्रांति की बात अंग्रेजी द्वारा नहीं हो सकती थी | इसलिये मैं कहता हूं कि हिंदी भाषा का मुझ पर बहुत बड़ा उपकार है , इसने मेरी बहुत बड़ी सेवा की है |”
“प्रत्येक प्रांतीय भाषा का अपना अपना स्थान है | मैंने अनेक बार कहा है कि जिस प्रकार मनुष्य को देखने के लिये दो आंखों की आवश्यकता होती है, उसी तरह राष्ट्र के लिये दो भाषाओं प्रांतीय भाषा और राष्ट्र भाषा की आवश्यकता होती है | इसलिये हम लोगों ने दो भाषाओं का ज्ञान अनिवार्य माना है | भगवान शंकर का एक तीसरा नेत्र था जिसे ज्ञान नेत्र कहते है | इसी तरह हम लोगों को तीसरे नेत्र की जरूरत हो तो संस्कृत भाषा का अध्ययन लाभकारी सिद्ध होगा और उस समय अंग्रेजी भाषा चश्मे के रूप में काम आयेगी | चश्मे की जरूरत सबको नहीं पड़ती | हाँ कभी कुछ लोगो को उसकी जरूरत पड़्ती है | बस इतना ही अंग्रेजी का स्थान है , इससे अधिक नहीं | इसलिये मैं चाह्ता हूं कि हिंदी का प्रचार अच्छी तरह व्यापक रूप में होना चाहिये |”
अंत में संत विनोबा पवनार चले गये और मौन व्रत का पालन करते हुये सन्यासी जीवन जीने लगे | सभी उनके दर्शनों और आशीर्वाद के लिये उनके पास जाते थे | नवम्बर ,1982 में उनका देहांत हो गया | 1983 में उन्हें मरणोपरांत “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया |

नसरीन अली “निधि”
अध्यक्षा
“वादीज़हिंदी शिक्षा समिति”( रजि.)
श्रीनगर , जम्मू और कश्मीर

0 0

matruadmin

Next Post

पृथ्वी का सिंगार

Sat Sep 12 , 2020
वृक्ष धरा के आभूषण हैं जीवन के आधार सखे! रोपावनी कराकर करना पृथ्वी का सिंगार सखे!! धरती का करते पोषण हैं अमृत जल बरसा करके! कोख कीयारी की भर जाती रिमझिम बूंदें पाकर के!! देते जल जंगम चेतन का जीवन का आधार सखे ! रोपावनी कराकर करना पृथ्वी का सिंगार […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।