हुँकार

Read Time0Seconds

जनता चुप क्यों है
हंसी ठिठोली बहुत हुआ,
अब गांडीव सी टंकार करों।
या केशव के पांचजन्य सा,
प्रलयी प्रचंड हुंकार करों।

वोटों के लालच में देखो,
घोषणा कैसी होती है।
देश द्रोहियों को भी अब,
फूलों की स्वागत होती है।

कोई भी उठ कर आता है,
उलूल जूलूल बक जाता है।
देशद्रोह कानून को भी,
खत्म करने की बात कर जाता है।

भारत की अपमान देखकर,
फिर भी जनता चुप क्यों है।
देशद्रोह कानून खत्म करने वाले की,
जीभ काटने में क्यो डर है।

कहें निकेश अब गरजेगे,
बनकर गांडीव की टंकार।
छोड़ेंगे नहीं अब उसको,
जो राष्ट्र से करें खिलवाड़।

निकेश सिंह निक्की समस्तीपुर बिहार

परिचय-
नाम निकेश सिंह निक्की
पिता श्री अरुण कुमार
ग्राम खोकसा रसलपुर थाना दलसिंहसराय जिला समस्तीपुर
कृति अखंड भारत (काव्य संग्रह)
जागो पुनः एक बार (काव्य संग्रह)
जनक्रांति (काव्य संग्रह)
पति परमेश्वर (समाजिक नाटक)
प्रकाशित दीक्षा प्रकाशन दिल्ली
राष्ट्रीय स्तर के विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएं प्रकाशित।
संस्थापक राष्ट्रीय अध्यक्ष बिहार नौजवान सेना समाजिक संगठन
सम्मान-साहित्य गौरव सम्मान
काव्य गौरव सम्मान
साहित्य सारथी गौरव सम्मान
साहित्य सागर सम्मान
महाकवि जयशंकर प्रसाद स्मृति सम्मान
प्रशस्ति पत्र द्वारा सम्मानित

1 0

matruadmin

Next Post

कहानी

Wed Sep 9 , 2020
श्राद्ध की सप्तमी तिथि मे ईश्वरीय अनुकम्पा हुई थी नये शरीर मे आत्मा हमारी अवतरित धरा पर हुई थी पूर्व जन्म के सद्कर्मों से प्रकाशवती मां बनी हमारी इस जन्म में कुछ अच्छा करुं पिता ऊंगली पकड़ चले हमारी जीवन के कठिन संघर्षों में भी पिता मदन लाल ने हार […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।