भगवान को रिटायरमेंट

Read Time1Second

पिछले आधे घंटे से माँ पूजा, पाठ,अगरबत्ती, माला,और आरती में लगी हुई है।बचपन से मैं देखता आ रहा हूँ। हर रोज बिना नागा किये, बीमार होने के बावजूद माँ ने कभी भगवान की भक्ति मे कोई कमी नहीं छोड़ी।भगवान का स्नान , मंदिर की सफाई, प्रसाद से लेकर उन्हें सुलाना ,झूला झूलाना….जाने क्या-क्या करती रहती है….पर बदले में क्या मिला माँ को….न पैसे का सुख ,न पति का सुख, वैध्वय से युक्त जीवन और बेरोजगार बेटा….सच कहूँ जब सुबह की आँख खुलती है ये मन्दिर की घंटियां मेरे समूचे वजूद पर हावी हो जाती है।

चीख-चीखकर कहना चाहता हूँ – खोखली मन्नतों का बोझ कब तक उठाओगी माँ, कब तक….।अब तुम्हारे साथ तुम्हारा भगवान भी बूढा हो चला है माँ ….मेरी मानों भगवान को रिटायरमेंट दे दो माँ…रिटायरमेंट….।

अचानक आँख खुलती है पसीने से तरबतर मैं उठ बैठता हूँ ….पर मंदिर घंटी और आरती की आवाज तो सच में आ रही है तो फिर हकीकत क्या है और सपना क्या….समझ नहीं पाता….कहीं सच में भगवान अपना रिटायरमेंट तो नहीं माँग रहे थे….क्या प्रलय होने वाली है….मैं दौङ़कर जाता हूँ और माँ के साथ घंटी बजाने लगता हूँ….माँ हक्की-बक्की कभी मुझे और कभी अपने भगवान को देख रही है….।

डॉ पूनम गुजरानी
सूरत

0 0

matruadmin

Next Post

बुजुर्ग

Thu Jun 18 , 2020
घर में जब तक बुजुर्ग है घर अनुभव की खान उनकी घर से रुख़्सती पर घर हो जाते बेजान कब, क्या,कैसे करना है जीवन में कैसे चलना है अच्छे बुरे में भेद बताते सुखी जीवन का मार्ग दिखाते सारा अनुभव हमें सुनाते जिनसे हम होते अनजान कुछ भी हो बुजुर्ग […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।