बुजुर्ग

Read Time0Seconds

घर में जब तक बुजुर्ग है
घर अनुभव की खान
उनकी घर से रुख़्सती पर
घर हो जाते बेजान
कब, क्या,कैसे करना है
जीवन में कैसे चलना है
अच्छे बुरे में भेद बताते
सुखी जीवन का मार्ग दिखाते
सारा अनुभव हमें सुनाते
जिनसे हम होते अनजान
कुछ भी हो बुजुर्ग की मान
वही तो है दूसरा भगवान।
#श्रीगोपाल नारसन

0 0

matruadmin

Next Post

एक गीत

Thu Jun 18 , 2020
ओ यारा ओ यारा क्यूँ क्यूँ क्यूँ ये सितम इतना तड़पाये मुझे हर घड़ी ढाये सितम ओ यारा•••••••••••••••• देख के तेरे यौवन जले मेरा तन बदन हसरते हिलोर मारे कब आये तुझे रहम कैसे कहूँ मैं तुझसे तेरे बिना आये न चैन ओ यारा ———— दूर न रह पायेंगे हम […]

You May Like

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।