घर घर मृत्यु दिवस है

Read Time0Seconds

रो पड़ता हूं जब पढ़ता हूं अख़बारों को।

रों पड़ता हूं मै,जब पढ़ता हूं अख़बारों को।
कहां छिपे है ये नेता,पूछता हूं इन दीवारों से।।

दीवारें भी गुमसुम खड़ी है,कुछ न बोल पाती है।
देख कर घर के दृश्यों को,वे भी आंसू बहाती है।।

घर घर शोक दिवस है,मृत्यु ने डेरा डाला है।
पुत्र मां से विदा ले रहे है जिसने उनको पाला है।।

ऐसे काले दिवस,कभी सुनने में भी नहीं आए है।
इनको आंखो से देख रहे,जो देखने में आए है।।

हे ! परम पिता परमेश्वर,ये कष्ट कम कर सकते हो तुम।
मानव कोरोना से परेशान है,इसको बुलालो अब तुम।।

आर के रस्तोगी
गुरुग्राम

1 0

matruadmin

Next Post

पर्यावरण दिवस

Fri Jun 5 , 2020
हवा सोच रही दवा को देख रही नज़ारे धरा में ज़हरीली हो गई है हवा लेना होगा सबको दवा ग़र न चेते समय से हम नज़र न आयेगी ये धरा हरे भरे वृक्षो को काटे तमस सबको मारे चाटे कंक्रीट के तो वृक्ष लगे न देगे पाएंगे शुद्ध हवा चाहे […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।