मेवात के जिहादियों द्वारा हिन्दू उत्पीडन पर अंकुश लगाए हरियाणा सरकार: विहिप

Read Time0Seconds

जीडी बख्सी के नेतृत्व में तीन सदस्यीय जांच दल देगा 2 दिन में देगा रिपोर्ट

      नई दिल्ली। मई 14, 2020। हरियाणा के मेवात में बढ़ते इस्लामिक जिहादियों के साथ बांग्लादेशी व रोहिंग्या मुसलमानों के आतंक से पीडित हिन्दू समाज की रक्षार्थ अब विश्व हिन्दू परिषद(विहिप) ने कमर कस ली है. विहिप के केन्द्रीय संयुक्त महामंत्री डॉ सुरेन्द्र जैन ने आज कहा है कि क्षेत्र में बेतहासा बढती जिहादी गतिविधियों के आगे जिस प्रकार स्थानीय पुलिस व प्रशासन लाचार दिख रहा है वह वेहद गम्भीर बात है. राज्य सरकार अबिलम्ब पीड़ित हिन्दुओं को न्याय दिलाकर दोषी पुलिस कर्मियों व प्रशासनिक अधिकारियों को निलंबित करे.  

       उन्होंने कहा कि हरियाणा के मेवात में जिहादियों द्वारा हिंदू समाज पर अमानवीय व बर्बर अत्याचारों का सिलसिला बहुत पुराना है। अभी तक इस पर कोई नियंत्रण नहीं हो सका है। संतो, हिंदू कार्यकर्ताओं, हिंदू समाज पर निरंतर अत्याचार होते रहते हैं। बांग्लादेशी व रोहिंग्या घुसपैठिए वहां शरण पाते हैं और जब कोरोना संक्रमित देशी-विदेशी जमातियों पर अंकुश लगाया गया तो उनको छिपने की जगह भी मेवात ही मिली। आज इनके आतंक के सामने पुलिस प्रशासन भी स्वयं को असहाय पाता है। कई बार तो ऐसा भी होता है कि पुलिस व प्रशासन इन अत्याचारियों के साथ ही खड़ा हुआ दिखाई देता है।

       पिछले दो महीनों में हिंदुओं पर अत्याचार का नया सिलसिला प्रारंभ हुआ है। नूह जिले के पुनहाना व नगीना प्रखंड मानो इन अत्याचारों के केंद्र बन गए हैं। आज हिंदू व्यापारी किसी मुस्लिम से अपनी उधारी वसूल करने की हिम्मत नहीं कर सकता। उसकी पिटाई कर दी जाती है। 12 मई को एक हिंदू बालक की शिखा पर अभद्र टिप्पणी की गई। विरोध करने पर उसके परिवार की 200  लोगों ने बुरी तरह पिटाई कर दी। ऐसी और भी अनेकों घटनाएं पिछले दिनों में हुई हैं। अपना कोई संरक्षक नहीं है यह समझ कर अब हिंदू समाज अपना धैर्य खो रहा है और पलायन को मजबूर हो रहा है.

       विश्व हिंदू परिषद राज्य सरकार से अपील करती है कि पीड़ित हिन्दू समाज को न्याय मिले, अपराधियों के विरुद्ध कठोर कार्यवाही हो तथा दोषी अधिकारियों को अविलंब निलंबित किया जाए जिससे  हिंदू समाज के सुरक्षा व प्रशासन के प्रति उसका विश्वास पुनः स्थापित हो सके.

       विश्व हिंदू परिषद ने आज एक तीन सदस्यीय उच्च स्तरीय जांच दल के गठन की घोषणा भी कर दी है. जिसमें मेज. जनरल(सेवानिवृत) जीडी बक्शी के अलावा महामंडलेश्वर पूज्य स्वामी धर्मदेव जी महाराज भी रहेंगे। विहिप की अपेक्षा है कि यह जांच दल दो दिन में ही अपनी रिपोर्ट हमें दे देगा जिसे हम सार्वजनिक करने के साथ-साथ हरियाणा के मुख्यमंत्री जी को भी भेजेंगे. हम अपेक्षा करते हैं कि सारे तथ्य सामने आएंगे और सरकार शीघ्र ही अपराधी तत्व पर कठोरतम कार्यवाही करेगी।

जारीकर्ता
विनोद बंसल
राष्ट्रीय प्रवक्ता,

विश्व हिंदू परिषद

0 0

matruadmin

Next Post

महफ़िल वो तेरी

Fri May 15 , 2020
गैर हुए तेरे अपने अब, और ये अपने आज बेगाने हो गए! कलम रो पड़ी है “मलिक”,और वो गैरों के दीवाने हो गए!! महफ़िल वो तेरी थी जहां, किसी ने बेइज्जत हमें किया था! खड़ा था तू गैरो के साथ,कैसा अपनेपन का सिला दिया था! बहुुत खामोशी से मेरे दिल […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।