रामनवमी पर पूज्य सन्तों व विश्व हिन्दू परिषद का आवाहन

0 0
Read Time2 Minute, 54 Second

प्रिय रामभक्तों,

    रामो विग्रहवान धर्मः। रामनवमी का पवित्र त्यौहार आने वाला है। इस शुभ अवसर को भक्तजन मन्दिरों में बड़ी संख्या में इकट्ठे होकर मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम का जन्मोत्सव सामूहिक रूप से मनाते आ रहे हैं।

    इस वर्ष संसार में विशेष आपात स्थिति बन गई है। हमारा प्यारा देश भी उस प्राणघातक कोरोना महामारी से जूझ रहा है। हमें इस महामारी पर उसी प्रकार विजय प्राप्त करनी है जैसे प्रभु श्रीराम ने सभी संकटों पर विजय प्राप्त की। अतः हम सब सरकार के सभी निर्देशों का पालन करते हुए भगवान का जन्मोत्सव पहले से भी अधिक उत्साह और उल्लास के साथ मनाएंगे।

    हम समस्त रामभक्तों का आवाहन करते हैं कि रामनवमी (चैत्र शुक्ल नवमी तदनुसार 02 अप्रैल 2020) को मध्यान्हकाल दिन में 12 बजे अपने-अपने घर में प्रभु श्रीराम के विग्रह अथवा चित्र के सामने परिवार के साथ बैठकर धूमधाम से भजन-पूजन करें, आरती उतारें, तत्पश्चात् एक माला (108 बार) विजय महामंत्र (श्रीराम जय राम जय जय राम) का जाप करें, प्रसाद आदि ग्रहण करें। सायंकाल अपने-अपने घर में एवं घर के दरवाजे पर दीप जलाएं, अपने गाँव, मोहल्ला, बस्ती के मन्दिरों में भी दीप जलाने की तथा यथासंभव रामचरित्र का ध्वनि विस्तारक के माध्यम से प्रसारण की व्यवस्था करें। ऐसा करने की प्रेरणा अपने पड़ोसियों, मित्रों व सम्बंधियों को भी दें। सारा भारत राम जन्मोत्सव धूमधाम से मनाए, यही समाज को हमारा संदेश है। आप सब सुखी रहें, स्वस्थ रहें, भगवान की कृपा आपको प्राप्त हो।

भवदीय

युगपुरुष स्वामी परमानन्द गिरि महंत नृत्यगोपालदास

अखण्ड परमधाम, हरिद्वार मणिरामदास छावनी, अयोध्या

सदस्य, श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र अध्यक्ष-, श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र

एडवोकेट आलोक कुमार जस्टिस विष्णु सदाशिव कोकज

कार्याध्यक्ष, विश्व हिन्दू परिषद अध्यक्ष, -विश्व हिन्दू परिषद

जारी कर्ता :
विनोद बंसल
प्रवक्ता-विहिप

matruadmin

Next Post

घातक कोरोना: सामाजिक एवं आर्थिक दृष्टिकोण

Mon Mar 30 , 2020
चीन की वूहान-भूमि से उपजा नोबेल कोरोना वायरस आज दुनिया के लिए मृत्यु का पर्याय बन गया है। वूहान शहर मृतप्राय पड़ा है। स्पेन, इटली और अमेरिका तड़पकर गिरते शवों की अन्त्येष्टि नहीं कर पा रहे हैं। पाकिस्तान, अफगानिस्तान, बर्मा जैसे लडखड़ाते देश गौर तलब नहीं रहे। भारत इक्कीस दिनों […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।