विहिप का आह्वान : कोरोना संकट में कोई भूखा न सोये

Read Time2Seconds
    नई दिल्ली। मार्च 23, 2020। सम्पूर्ण भारत कोरोना से युद्ध लड़ रहा है जनता कर्फ्यू को सम्पूर्ण देश ने मिलकर सफल बनाया है। कल सायं 5 बजे जैसे ही पूरे देश ने ताली, थाली, घण्टी, शंख-नाद इत्यादि माध्यमों से जिस प्रकार, चिकित्सा तथा एवम् अनिवार्य आवश्यक सेवा प्रदाताओं के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित की है, उससे सम्पूर्ण देश का संकल्प प्रकट हो गया। विश्व हिंदू परिषद (विहिप) कार्याध्यक्ष एडवोकेट श्री आलोक कुमार ने कहा है कि सभी जाति-विरादरी व मत-पंथों से ऊपर उठ कर लिया गया यह राष्ट्रीय संकल्प अद्वितीय व अभिनंदनीय है। इसी प्रकार के संकल्प हर चुनौती का सामना करने में सहायक होते हैं। हमारा पूरा विश्वास है कि इस मजबूत राष्ट्रीय संकल्प के सामने कोरोना जैसी महामारी भी अपने घुटने टेक देगी। हमें अब यह सुनिश्चित करना है कि संकट की इस घडी में देश का कोई नागरिक भूखा ना सोए।

    उन्होंने कहा कि देश के अनेक राज्यों में 31 मार्च तक लॉक-डाउन की घोषणा की गई है। व्यापार, कारखाने, स्कूल, कॉलेज व सार्वजनिक परिवहन बन्द रहेंगे। इस लॉक-डाउन से दिहाड़ी मजदूर, रेहड़ी, रिक्शाचालक, कुली इत्यादि लोग जो रोज कुआं खोदकर पानी पीते हैं, के बड़ी कठिनाई में फंसने की सम्भावना है। आय बन्द होने से उनके परिवारों में बड़ा आर्थिक संकट खड़ा हो सकता है। अतः संघर्ष की इस वेला में कोई एक भी व्यक्ति भूखा न सोये, इसे सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी देश के सभी सक्षम नागरिकों की है।

    विश्व हिंदू परिषद इन सभी सक्षम नागरिकों से आव्हान करती है कि वे अपने-अपने  मोहल्ले, गाँव व शहरों में यह सुनिश्चित करें कि वहां के प्रत्येक व्यक्ति को दो समय की रोटी पेट भरने के लिए मिलती रहे। इस पवित्र कार्य में अपने क्षेत्र के धर्म स्थलों यथा मठ-मंदिरों, गुरुद्वारों, जैन स्थानकों, बौद्ध विहारों इत्यादि धार्मिक स्थलों, रेजीडेंट वेलफेयर एसोसिएशनों, व्यापार मंडलों, पंचायत समितियों इत्यादि की सहायता भी ली जा सकती है।

    एक प्रेस वक्तव्य के माध्यम से श्री आलोक कुमार ने यह भी कहा कि विहिप कार्यकर्ता समाज के सभी अंगों का साथ लेकर इस पुण्य कार्य को सम्पन्न करते हुए प्रशासनिक निर्देशों के पालन का ध्यान अवश्य रखें। सबको यह अवश्य ध्यान रखना चाहिए कि हम प्रशासन के कार्यों में सहायक बनें, ना कि बाधक।    

जारीकर्ता
विनोद बंसल
राष्ट्रीय प्रवक्ता
विश्व हिंदू परिषद

0 0

matruadmin

Next Post

भारत की राष्ट्रीय और सांस्कृतिक पहचान विक्रम संवत

Tue Mar 24 , 2020
चैत्र शुक्ल प्रतिपदा जगत का उत्पत्ति दिवस चैत्रे मासि जगद्ब्रह्मा ससर्ज प्रथमेऽहनि। शुक्लपक्षे समग्रं तु तदा सूर्योदय सति।। हेमाद्रि के ब्रह्मपुराण के अनुसार चैत्र मास के शुक्ल पक्ष के प्रथम दिन सूर्य उदय के समय ही परम पिता ब्रह्मा जी ने इस जगत की उत्पत्ति की थी। इसी कारण से […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।