उस दिन …

Read Time2Seconds

समय की गति को वह अपनी चाल से भाँप रहा था।सूनी सड़क पर वह अकेला ही था। इस सड़क से उसका प्रायः रोज आना-जाना होता है। पर आज के दिन सड़क को खाली पाकर वह कयास लगाने लगा था , ‘ आखिर में क्या बात है जो सड़क पर राहगीरों का तांता ज़रा भी नहीं है ? ‘
चलते-चलते ही उसने गर्दन ऊँचीकर एक लम्हे के लिए आसमान देखा । वह पूरी तरह साफ था।
अचानक सड़क के दोनों ओर की बत्तियाँ जल उठीं ! उसने तत्काल अनुभव किया कि उसके दायें-बायें जली बत्तियों ने उसकी परछाई को दो समान भाग में बांट दी है । वह चलता चल रहा था ।अब वह एक से तीन हो चुका था।
वह और उसकी दो विरोधाभासी परछाइयां।
कल उसे अहमदाबाद के लिये टैक्सी पकड़नी होगी ! अपनी विरोधाभासी परछाइयों की तरह दो विपरीत सवाल उसके मन में
घुमड़ रहे थे । ‘ लौटने में साथ आने के लिए बीवी ने कुछ नहीं बताया था , कहा था कि कल अहमदाबाद चले आओ ।’
तो क्या वाक़ई कल उसे अहमदाबाद के लिये निकल लेना चाहिए ! राम जाने उसकी उसके मायके वालों के बीच क्या बात हुई होगी ! बहुत करके मायके वालों ने उसे मेरे साथ वापिस लौट आने के लिये दबावः बनाया होगा! तभी तो मोबाइल पर ज़्यादा बात न कर उसने सिर्फ इतना ही कहा कि अहमदाबाद चले आओ ।
असमंजस से परिपूर्ण विचारों ने उसके निजत्व पर हमला बोल रखा था । घर में चार बर्तन तो बजते ही हैं ! मतभेदों की अपारदर्शी दीवार किस घर में खड़ी नहीं होतीं ? बातचीत से मसले सुलझ जाया करते हैं ।
उसने यह भी सोचा कि उसका ईगो उसका ईगो है ।
खैर , कल वह अहमदाबाद जाएगा । पर अकेला नहीँ । अपने बूढे मां-बाप के साथ । उसपार या इसपार की जो भी लड़ाई होना है , वह लड़ाई उसीके मायके के पानीपत पर हों । ताकि समझौते के पीछे अकेले वादे नहीं गारंटियों
के स्टाम्प पेपर भी हस्ताक्षरित हों।

डॉ.पुरुषोत्तम दुबे, इंदौर

परिचय:

परिचय :
डॉ.पुरुषोत्तम दुबे
इंदौर 452 009 ( म. प्र. )
सेवानिवृत्त प्राध्यापक , उच्चशिक्षा
समीक्षक एवं साहित्यकार
मुम्बई,नारनोल(हरियाणा), जालन्धर(पंजाब) जबलपुर आदि अनेक स्थलों से लघुकथा की समीक्षा के क्षेत्र में पुरुस्कृत।
वर्तमान में स्वतंत्र लेखन कार्य।

0 0

matruadmin

Next Post

मेरी भाषा

Tue Mar 24 , 2020
मेरी भाषा सन्नाटा बनी तब भी हम चुप रहे। अंग्रेजी की छाया में छिपी तब भी हम चुप रहे। यह सन्नाटा धमाकों के साथ प्रवेश कर गया। भाषा लुप्त सी होती , दिखी ,तो भी हम चुप रहे। धीरे धीरे अपनी भाषा धूमिल सी होने लगी, नजरिया बदलने लगा। तब […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।