नगरवधू

1 0
Read Time1 Minute, 4 Second

पगडंडियां ठेकेदार नहीं बनाते
इनके लिए आवंटित नहीं होता कोई बजटइसलिए इनमें रुचि नहीं होती किसी नेता, इंजीनियर या बाबू की पगडंडियां बनती है। कुचले जाने से नरम घास
दोपाये या चौपाये के पैरों तले
वे सींची जाती है कांटे और कंकर चुभे पैरों से रिसते खून से कूटी जाती खड़खड़ाते दुपहिया वाहनों तले पगडंडिया जरूरी नहीं। सार्वजनिक जमीन पर हो
लेकिन जब ये आम रास्ता हो जाती है, तो लार टपकने लगती है
नेता और अफसरों की तब ये पगडंडियां सड़क बन जाती है।
उसी तरह जैसे गाँव की अल्हड़ बाला बहक कर जब शहर आती है तो नगरवधू हो जाती है ।

दिलीप जैन, उज्जैन

परिचय-


दो उपन्यास प्रकाशित
कविताएं एवं लघुकथाएं पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित
उज्जैन (मध्यप्रदेश)

matruadmin

Next Post

जियो और जीने दो

Mon Mar 16 , 2020
दुनिया का दिमाग ठीक करने वाले पागल हुए जा रहे है। हाथियों से लड़ने वाले मच्छरों से घायल हुए जा रहे है। किस समय क्या होने वाला है ये कोई नहीं जानता क्योंकि जो खुश रहना चाहते है। वही आज पल पल रो रहे है क्योंकि हवा के हर झोके […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।