कवि सुनील चौरसिया’सावन’ ने किया श्रीमद्भगवदगीता का अनुवाद

Read Time18Seconds

कुरुक्षेत्र की युद्धभूमि में श्रीकृष्ण ने जो उपदेश दिया था वह श्रीमद्भगवदगीता के नाम से प्रसिद्ध है। यह महाभारत के भीष्मपर्व का अंग है। जैसा गीता के शंकर भाष्य में कहा है- तं धर्मं भगवता यथोपदिष्ट वेदव्यासः सर्वज्ञोभगवान् गीताख्यैः सप्तभिः श्लोकशतैरु पनिबन्ध। गीता में १८ अध्याय और 700 पठनीय एवं अनुकरणीय श्लोक हैं।

कवि सुनील चौरसिया ‘सावन’ ने श्रीमद्भगवदगीता के दूसरे अध्याय ‘सांख्ययोग’ का ‘कृष्णार्जुन भावधारा’ नाम से मनोहारी भावानुवाद किया है। महान योद्धा अर्जुन जब रणक्षेत्र में परम पूजनीय स्वजन को देखते हैं तब युद्ध करने से साफ-साफ इंकार कर देते हैं। इस विषम परिस्थिति में उपदेशक श्रीकृष्ण समझाते हैं-

हे अर्जुन !
क्यों बैठे हो डरकर ?
मोह-माया में फँसकर,
कौन है तेरा अपना,कौन है पराया ?
सबको एक दिन जाना है,जो भी यहाँ आया,
तेरे उत्सुक नयनों पर,अज्ञान का पर्दा छाया।

आत्मा की विशेषता बताते हुए भगवान श्री कृष्ण अर्जुन से कहते हैं-

नैनं छिन्दन्ति शस्त्राणि नैनं दहति पावकः।
न चैनं क्लेदयन्त्यापो न शोषयति मारुतः ॥

इस श्लोक का युवाकवि ‘सावन’ ने अपनी सहज एवं सरल शैली भावानुवाद किया है-

न कटारी से कटे,न जले आग से।
न जल से भींगे,न सूखे त्याग से ll

मोह माया में फंसे हुए अर्जुन को समझाते हुए भगवान श्री कृष्ण कहते हैं-

जो ‘सोच्य’ नहीं है उसे सोचते हो क्यों,
ज्ञानी हो,अज्ञानता को सींचते हो क्योंl

श्रीमद्भागवतगीता का यह श्लोक बहुत ही लोकप्रिय है-

हतो वा प्राप्स्यसि स्वर्गं जित्वा वा भोक्ष्यसे महीम्।
तस्मादुत्तिष्ठ कौन्तेय युद्धाय कृतनिश्चयः ॥
5 अगस्त 1993 को ग्राम- अमवा बाजार पोस्ट – रामकोला जिला- कुशीनगर उत्तर प्रदेश में जन्मे युवा कवि ‘सावन’ ने उपर्युक्त श्लोक का कुछ इस तरह से मनोहारी अनुवाद किया है-

स्वर्ग का दरवाजा,खोलने तू आजा।
या सांसारिक सुख को,तौलने तू आजा ll
बिनु प्रयत्न खुल चुका है,स्वर्ग का दरवाजा।
दु:ख-दरिया को त्यागकर,सुख-सागर में समा जाll

गीता में भगवान श्री कृष्ण कहते हैं कि हमें हमेशा अपने कर्म पर ध्यान देना चाहिए न कि फल पर-

कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन। मा कर्मफलहेतुर्भुर्मा ते संगोऽस्त्वकर्मणि ॥

इस श्लोक का कवि ‘सावन’ ने बहुत ही मर्मस्पर्शी शब्दों में अनुवाद किया है-

कर्म करो कर्म लेकिन कर्म हो निष्काम।
धर्म,शील,सद्कर्म से मिलेगा मुक्ति-धामll
मनसा,वाचा,कर्मणा कर्म का हो ध्यान।
‘सावन’ सच्चा कर्मयोगी जग में पूज्य महानll

सदा करो सद्कर्म,मत करो कर्म का त्याग।
ज्यों करोगे फल की इच्छा,लग जाएंगे दागll

केंद्रीय विद्यालय टेंगा वैली अरुणाचल प्रदेश में प्रवक्ता पद पर सेवा प्रदान कर रहे कवि सुनील चौरसिया ‘सावन’ ने साधु, वैरागी और मुनि की विशेषताएं बताते हुए लिखा है–

साधु सदा साधना करे,बैरागी करे न क्रोध।
मुनि मनावे मन को,तपस्वी सहे प्रतिशोधll

विषयों के विष से,बच जाने वाला प्राणी।
मोक्ष का अधिकारी है और है प्रज्ञा-ज्ञानीll

श्रीमद्भागवत गीता में कहा गया है कि न ही हमें विषयों के जाल में फंसना चाहिए और न ही क्रोधाग्नि में जलना चाहिए–

विषय से आसक्ति बढ़े,बढ़े कामना-क्रोध।
क्रोध से कुबुद्धि बढ़े,राग,द्वेष,प्रतिशोधll

बुद्धि नहीं तो भाव नहीं,भाव नहीं तो दु:ख।
दु:ख में शान्ति क्रान्ति करे,मिले न मुक्ति-सुखll

संसार-सागर,विषय-जल में,तैरे बुद्धि-नौका।
मन-पवन में फँसी कुबुद्धि,डूबी तो ‘सावन’ चौंकाll

भगवान श्री कृष्ण अर्जुन को समझाते हुए बताते हैं कि हमें सांसारिक वस्तुओं का भोग तो करना चाहिए लेकिन भूल कर भी भोगी नहीं बनना चाहिए-

करो भोग का भोग,लेकिन बनो कभी ना भोगी।
घटो,न चढ़ो चोटी,ज्यों सागर,मुनि,योगी ll

सांख्ययोग के 72 श्लोकों का कवि सुनील चौरसिया ‘सावन’ ने लगभग 150 पंक्तियों की लंबी कविता के रूप में भावानुवाद किया है जिसे आप गूगल पर भी ‘कृष्णार्जुन भावधारा’ नाम से पढ़ सकते हैं।

अंत में भगवान श्री कृष्ण अर्जुन से कहते हैं कि मोह माया से मुक्त होकर परमात्मा(श्री कृष्ण ) में ध्यान लगाने एवं निष्काम कर्म से ही परमानंद की प्राप्ति संभव है-

हे पार्थ ! स्वार्थ,मोह,माया मिटाकर।
जीव परम सुख पाता,विधाता में समाकरll

#सुनील चौरसिया’सावन’

1 0

matruadmin

Next Post

विहिप के केंद्रीय महामंत्री श्री मिलिंद परांडे जी का प्रेस वक्तव्य

Fri Feb 21 , 2020
जारी कर्ता : पांडुरंग राउत प्रांत अध्यक्ष विहिप-पश्चिम महाराष्ट्र प्रांत Post Views: 165

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।