अपनी -अपनी नियति

Read Time0Seconds
  " मुझे देख कर मुस्कुरा क्यों रहे हो पिद्दूराम ?क्या नाम है तुम्हारा ?"

“आज ।”तुम इतने बेडौल और मोटे हो ,देखकर हंसी नहीं आएगी क्या ?” वर्तमान ने इठलाते हुए कहा।

वह बिना सुने आगे बोला “और आपका ?”

उसके भोलेपन से पूछे गए प्रश्न पर बह ठहाका मारकर हंस पड़ा।

” मुझे सब जानते हैं । एक तू ही नहीं जानता शायद। मैं इतिहास हूं ,माज़ी हूं ,हिस्ट्री हूं ,तारीख हूं ,तेरी जो भाषा हो उसमें समझ ले ।”

“ओ हो । तभी आप मुझ जैसी नाचीज को रोज निगलते रहते हो।”

वर्तमान की बात अनसुनी कर अतीत आगे उसे समझाने के लिहाज से कहने लगा ” तुम अभी छोटे और अनुभव में कम हो । कल तुम्हें भी मेरा नाम मिलने वाला है ।इसलिए तुम्हें भी यह राज़ जान लेना चाहिए । “

“कौन सा ?”

“सुनाता हूं ।इंसानी खोपड़ियों की तीन प्रका की किस्में होती है। एक शैतान खोपड़ियांं, जो सच्ची घटनाओं को झूठ का जामा पहनाकर मेरे सीने में दफन कर देती हैं। दूसरे प्रकार की खोपड़ियां, जो बरसों- बरसों से जमी मेरे अंंदर की चट्टानों को तोड़कर सच को बाहर निकालततीं हैं और तीसरे प्रकार की खोपड़ियां मासूम होती हैं, आम इंसान ,जो पहली किस्म वाली खैपड़ियों के बताए अनुसार झूठे ‘सच को मान लेती हैं और दूसरी किस्मवाली खोपड़ियों द्वारा किए गए शोध कार्यों के पश्चात निकले सच को देख सुनकर विस्मय अभिव्यक्त करतीं हैं ।”

अतीत से यह राज़ जानकर वर्तमान सोचने लगा कि मेरी उम्र मात्र 24 घंटे और अतीत की हजारों हजारों वर्षों की। जब शैतानी खोपड़ियांं अपना
वजूद जिंदा रखने के लिए बाकी दोनों किस्मों वाली खोपढ़ियों का विश्वास अपनी धूर्तता से जीत लेती हैं ,तो हम क्या चीज हैं,?”

एक लंबी सांस लेते हुए वह कह उठता है …”अपनी- अपनी नियति।”

डॉ..चंद्रा सायता
इंदौर(मध्यप्रदेश)

0 0

matruadmin

Next Post

राष्ट्र

Sun Sep 27 , 2020
प्रगति होती उसी राष्ट्र की जहां राष्ट्रप्रेम होता भरपूर राष्ट्र के बिना अस्तित्व कहां चाहे किसान हो या मजदूर वेतनभोगी भी अंग राष्ट्र के खुशहाली सबकी जरूरी है ईमानदारी से हो सेवा राष्ट्र की राष्ट्र के प्रति समर्पण जरूरी है जनहित चिंतन करे हम सब रोटी, कपड़ा,छत जरूरी है अमीर […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।