मीडियाकर्मियों का कवि सम्मेलन-मुशायरा सम्पन्न, पत्रकारों को किया सम्मानित

Read Time1Second

_हर बार महत्वपूर्ण होते है अखबार वाले-सत्तन_
इंदौर।

स्टेट प्रेस क्लब, मध्यप्रदेश द्वारा कवि एवं शायर मीडियाकर्मियों का कवि सम्मेलन एवं मुशायरा ‘हम भी है कमाल के’ का आयोजन रविवार को साँझी मुक्ताकाश, गाँधी हॉल में किया गया। आयोजन के मुख्य अतिथि राष्ट्रीय कवि सत्यनारायण सत्तन, विशिष्ठ अतिथि ग़ज़लकार अजीज़ अंसारी व इंदौर प्रेस क्लब के महासचिव नवनीत शुक्ला रहें।शारदे वंदना व दीप प्रज्वलन के साथ आयोजन शुरू हुआ, अतिथियों का स्वागत प्रवीण खारीवाल, राकेश द्विवेदी, आकाश चौकसे द्वारा किया गया। आयोज में लगभग 25 से अधिक पत्रकारों ने अपनी रचनाएँ पढ़ी जिसमें सूर्यकांत नागर, डॉ हरेराम वाजपेयी, कीर्ति राणा, पंकज दीक्षित, डॉ श्याम सुंदर पलोड़, सत्येंद्र वर्मा, सुरेश उपाध्याय, आर डी माहुर, सुषमा दुबे, हर्षवर्धन प्रकाश, नेहा लिम्बोदिया, डॉ अर्पण जैन अविचल, गोविंद शर्मा गोविंद, डॉ सुनीता श्रीवास्तव, राहुल तिवारी,डॉ भरत कुमार ओझा, मुकेश तिवारी, ज्ञानी रायकवार, हीरालाल वर्मा, प्रभात पंचौली, श्याम दांगी, डॉ राकेश गोस्वामी, भूपेंद्र विकल, सत्येंद्र हर्षवाल ने काव्य पाठ किया।काव्य पाठ के उपरांत स्टेट प्रेस क्लब के अध्यक्ष प्रवीण खारीवाल, कमल कस्तूरी, आकाश चौकसे, शीतल रॉय सहित सभी अतिथियों ने पत्रकारों का सम्मान किया।कार्यक्रम का संयोजन व संचालन डॉ अर्पण जैन ‘अविचल’ ने किया व आभार कमल कस्तूरी ने माना।कार्यक्रम उपरांत स्वल्पहार किया गया।

0 0

matruadmin

Next Post

ताजमहल

Wed Feb 19 , 2020
नल के जल को भी गंगाजल समझिए। भूलकर भी न दुश्मन को निर्बल समझिए।। जो हो गया सो हो गया, मत रोइए, मिले हुए हर फल को कर्मफल समझिए।। सवालों के शूल से दिल घायल न हो, इक सवाल को दूसरे का हल समझिए।। ‘सावन’ सुख से सोइए सूखे बिस्तर […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।