नदियाँ

Read Time7Seconds

सृष्टि का निर्माण नित-नित नदियाँ करतीं
प्रकृति का श्रृंगार हरदम नदियाँ करतीं

मनुज ही नहीं, हर प्राणी को जीवनदान देतीं
हमारे देश में नदियाँ अमरता का वरदान देतीं

लेकिन अब आदमी के स्वार्थ ने –

होकर निर्लज्ज, उत्खनन की तोड़ी है सीमा
जलचर जीवों को दिया है जहर धीमा

प्रदूषण का ऐसा करतब दिखाया
नदियों को कीचड़वाला नाला बनाया

मानवी उत्पात ने खुद मानव को संकट दिया है
आधुनिक विकास ने ही विनाश पैदा किया है

घुट-घुट मरती नदिया की धारा
मत भूल मनुज मरी नदियाँ तो मरेगा जग सारा

अगर देर हो गई तो लुप्त होंगे-

मीन, कछुए, सीपी, घड़ियाल…
आयेगी प्रकृति प्रलय, मनुज तू होगा बहुत बेहाल

समय रहते चेत जा रे

बहने दें स्वच्छ निर्मल नदी की धारा
नदियाँ बचाओ ! कर्त्तव्य है हमारा-तुम्हारा

#मुकेश कुमार ऋषि वर्मा

परिचय : मुकेश कुमार ऋषि वर्मा का जन्म-५ अगस्त १९९३ को हुआ हैl आपकी शिक्षा-एम.ए. हैl आपका निवास उत्तर प्रदेश के गाँव रिहावली (डाक तारौली गुर्जर-फतेहाबाद)में हैl प्रकाशन में `आजादी को खोना ना` और `संघर्ष पथ`(काव्य संग्रह) हैंl लेखन,अभिनय, पत्रकारिता तथा चित्रकारी में आपकी बहुत रूचि हैl आप सदस्य और पदाधिकारी के रूप में मीडिया सहित कई महासंघ और दल तथा साहित्य की स्थानीय अकादमी से भी जुड़े हुए हैं तो मुंबई में फिल्मस एण्ड टेलीविजन संस्थान में साझेदार भी हैंl ऐसे ही ऋषि वैदिक साहित्य पुस्तकालय का संचालन भी करते हैंl आपकी आजीविका का साधन कृषि और अन्य हैl

0 0

matruadmin

Next Post

विश्व हिन्दू परिषद के महामंत्री श्री मिलिन्द पराण्डे का प्रेस वक्तव्य

Sat Feb 1 , 2020
जारी कर्ता : विनोद बंसल (राष्ट्रीय प्रवक्ता) विश्व हिन्दू परिषद, Post Views: 162

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।