विश्व पुस्तक मेले में ‘ऑपरेशन बस्तर’ का विमोचन

Read Time1Second

इंदौर / दिल्ली।

मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय महासचिव कमलेश कमल का पहला उपन्यास ‘ऑपरेशन बस्तर’ का विमोचन मंगलवार को दिल्ली के प्रगति मैदान में चल रहे विश्व पुस्तक मेला 2020 में हुआ।
इस अवसर पर वरिष्ठ पत्रकार एवं साहित्यकार डॉ. आशीष कांधवे, सुप्रसिद्ध व्यंग्यकार लालित्य ललित एवं मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल मौजूद रहे।
ज्ञात रहें कि इस पुस्तक की ख्याति ने विमोचन के पहले ही प्रीबुकिंग में अमेज़ॉन की भारतीय पुस्तकों की बेस्ट सेलर सूची में तीसरे पायदान पर पहुँचा दिया। हजारों पाठकों एवं हिन्दी प्रेमियों ने कमलेश कमल की पुस्तक की प्रीबुकिंग कर उत्सुकता व्यक्त की हैं।

हम अपने हिन्दी योद्धा को पढ़ना चाहते है…
निश्चित तौर पर मैं खुद हिन्दी आंदोलन से जुड़ा हुआ हूँ और मेरी उत्सुकता है इस किताब को पढ़ने में, यह भी जानते है कि कमल जी भाषा पर गहरी पकड़ रखते है, किन्तु उनकी लेखनी की कसावट ही ‘ऑपरेशन बस्तर’ की तरफ खींच रही है।

  • जलज व्यास ( आम पाठक की रॉय)

मेरे नवोदय का गर्व कमलेश कमल
हिन्दी माँ की सेवा का जो बीड़ा कमलेश कमल एवं दल ने उठाया है वह राष्ट्र की अनुपम सेवा है, और इसी के चलते उनकी किताब को पढ़ना मेरा सौभाग्य है।
कमलेश कमल जी ने नवोदय विद्यालय से अध्यन किया है यह हम 3 लाख से अधिक छात्रों का गर्व हैं।

  • तेज प्रताप, पटना (नवोदय के छात्र व ऑपरेशन बस्तर के पाठक)
1 0

matruadmin

Next Post

पर्यावरण संकट : इस सदी की सबसे बड़ी चुनौती

Tue Jan 7 , 2020
ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी आग में झुलसकर करीब 50 करोड़ निरीह जानवरों की मौत हो चुकी है… इनमें स्तनधारी पशु, पक्षी और रेंगने वाले जीव सभी शामिल हैं…इनकी कितनी ही प्रजातियां अब समाप्त हो जाएंगी…तस्वीरें दिल को दहला देती हैं… दर्जनों लोग भी मारे गए हैं…कुआला की करीब आधी […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।