तू ही सच में महान है

Read Time3Seconds

kirti jayaswal

वीर वो सैनिक तम को हराने,
जाते जिनके प्राण हैं;
जिस मिट्टी से मिल जाते हैं,

वह ही ‘दीप’ महान है।

दीपक तुम जलते जाना,
जगमग जग करते जाना;
जल-जल जितना मरुँ ‘पतंगा’,
जगमग उतना जग होगा।
दीपक तुम जलते जाना,
तुझमें आकर मर जाऊंगा।

भानु चमकता जगमग जग में,
तारकगण आकाश में;
प्रेम-तेरे बिन जो न जलता,
वह ही ‘दीप’ महान है।

शशक रूप; शिशु रूप लिए,
‘घन’ नभ में हैं; विस्तार में;
तड़िक-वज्र से वार किया,
इन मूकों पर तूफान ने।

अंधकार का कारण क्या ?
कुछ और नहीं तूफान है;
जगमग जग जो रोशन करता,
दीप भी एक शिकार है।
बड़े भयंकर वृक्ष गिराया,
खंभ,गेह भी है मथ डाला;
वृक्ष मथे थे; खंभ मथे थे,
गेह मथे तूफान ने।

अभी-अभी अंकुर से आया,
पौधा बन जो नम्र खड़ा है;
वृक्ष हैं टूटे; खंभ हैं टूटे,
धावित नर हैरान हैं।
खड़ा नम्र से नम्र बना दे,
वह ही बड़ा महान है।

भूत भयानक तम में होते,
वृक्ष दिवस जो ‘यार’ हैं;
गुह्यतम से जो रस ले आती,
डसती तम; क्या राज है ?

ऊँट पर नर ‘मरू’ में खोजें,
और भौंरे पुष्प के बाग में;
चीर जो गिरि से लाता ‘रस’ को,
वह ही ‘कुटज’ महान है।

सूरत पर एक मुस्कुराहट,
खिलती तभी हजार हैं;
‘कली’ भली तू खिलती प्रांतर,
तू तो बड़ी नादान है।

उड़ते शुक हैं; काक-विहग है,
ऊंचाई पर बाज हैं;
पंगु पैर ले जो उड़ जाता,
‘बगुला’ वही महान है।

जुगनू-सा तारक जगमग जग,
नजर फेरे ‘अज्ञान’ है;
विभा भानु से ले जो जगमग,
‘चंद्र’ वह बड़ा महान है ?

पंछी नभ में; वायुयान भी,
ख्वाब भी हैं आकाश में;
उच्च विचार जो कर्म में परिणित,
वह ही उच्च,महान है।

व्याल न होकर डस जाता है,
व्याघ्र न हो जो गुर्राता;
तूफानों सा जकड़-पकड़ता,
कौवे-सी जबान है।
बनकर दानव बैठा ‘मानव’,
या उसका सम्राट है ?
हे नर! तेरे रुप अनेक,
तू ही सच में महान है॥
(शब्दार्थ:शशक-खरगोश,तड़िक-आकाश बिजली,व्याल-साँप,व्याघ्र-बाघ एवं गुह्यतम-छिपा हुआ)

 कीर्ति जायसवाल
इलाहाबाद(प्रयागराज)
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

आया है जुलाई का महीना

Fri Jul 5 , 2019
आया जब जुलाई का महीना बोला सोनू मां से मां ओ मां मुझको भी पाठशाला ले चल मैं पढूंगा मैं लिखूंगा मेहनत कर आगे बढूंगा मां मुझको पाठशाला ले चल सबका बढ़ना मेरा बढ़ना सबकी प्रगति मेरी भी प्रगति मां मुझको पाठशाला ले चल सब हैं जाते मैं ही न […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।