उस पर कविता क्या लिखूँ ?

Read Time5Seconds
alok premi
जिसकी सूरत पर भावों की कल-कल बहती सरिता है।
उस पर कविता क्या लिखूँ जो खुद ही एक कविता है।
रुप की रुप, धूप धूप का ताप, ताप का क्या कहना।
मूल बढ़ाया कुंडल का जो
कानों में इसको तूने पहना।
लाल गाल पर तिल तिल का
जादू का क्या कहना।
तुम्हे देखकर बडा कठिन है,दिल को काबू में रख पाना।
मेरे उर के अंधकार में रुप तुम्हारा सविता है।
जिसकी सूरत पर भावों की बहती सरिता है।
उस पर कविता क्या लिखूँ  जो खुद ही एक कविता है।
बिखरे-बिखरे बाल गाल को छूकर  कानों तक जातें।
मानो काले मेघ तुम्हें छू छू कर अपने आप से इठलाते।
पतले-पतले होठ कत्थई सरस- रसीले  भरे-भरे।
तरुणी तेरी ऑख देखकर प्रेमी पागल हो जाए खड़े-खड़े।
गले दुपट्टा देख ना जाने क्यों दिल को कुछ दुविधा है।
उस पर कविता क्या लिखूँ  जो खुद एक  कविता है।
रंग तुम्हारा सोने जैसा नाम तुम्हारा ****** है।
कितना सुन्दर रूप तुम्हारा काया कितनी कोमल है।
मेरे मन में पंचम सुर में गीत गा रही कोयल है।
लली तुम्हारी छटा ललितियों  लगता है यह ललीता है।
उस पर कविता क्या लिखूँ जो खुद ही एक कविता है।
क्या कमाल है क्य कपाल है संग किसी की चाह रही।
झूठ नहीं सच कहता हूँ *****मेरे  दिल को तू भाह रही।
काया तेरी मन को समाया,रुप तेरा एक नवीता है।
उस पर कविता क्या लिखूँ  जो खुद ही एक कविता है।
#आलोक प्रेमी
 
परिचय- 
नाम-आलोक प्रेमी 
पिता-श्री परमानंद प्रेमी 
माता-श्रीमती गोदावरी देवी
स्थाई पता-ग्रा•+पो•-भदरिया 
थाना-अमरपुर 
जिला-बाँका(बिहार)
     813101
शैक्षणिक योग्यता-शोधार्थी नेट (हिन्दी)
अन्य-आकाशवाणी भागलपुर से नियमित रूप से स्वरचित कहानी/कविता/आलेख/वार्ता का प्रसारण। 
शौक-अच्छी किताबें खरीदने की 
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

वेदमाता के प्रांगण में माँ हिंदी का महायज्ञ है- कवि मुकेश मोलवा*

Sat Jun 8 , 2019
डेहरी- कुक्षी (धार )। संस्कृति की धरोहर मातृभाषा सर्वज्ञ है, वेदमाता के प्रांगण में हिंदी का महायज्ञ है।उक्त उदगार वेदमाता गायत्री तथा श्री राम मन्दिर की प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर स्थानीय गांधी चौक में आयोजित राष्ट्रीय कवि सम्मेलन में ओज के प्रसिद्ध कवि मुकेश मोलवा ने कहें। अपने चिर […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।