लगन की अगन

Read Time4Seconds

manisha nema

गरजत ‘गगन’ मद में हैं मेघा,

लरजत मन पुलकित सस्नेहा,

तरस रहा तन पी संग नेहा,

बाहुपाश, रति, मधुमास विशेषा,

 

कौंध रही है तड़ित दामिनी,

जाग रही मंत्रमुग्ध यामिनी,

संवर रही है धरती मानो,

सुहाग सेज चिरप्रतीक्षित बेला,

 

मचल रही उन्मादित ‘अगन’ मंद,

अम्बर लिख रहा बूंदों संग प्रेमग्रंथ,

प्रीति की ‘लगन’ में मगन हैं दोनों,

है सृष्टि उर्वरा, उत्प्रेरक हैं घन……

नाम- श्रीमती मनीषा नेमा 
वर्तमान पता-थाणे 
राज्य-महाराष्ट्र 
शहर-थाणे 
शिक्षा- पोस्ट ग्रेजुएट (वनस्पतिशास्त्र)
कार्यक्षेत्र- ट्रांसलेटर (इंग्लिश<>हिंदी)
विधा -दोहा, मुक्तक, छंदमुक्त, हाइकु, सेदोका,चोका, लेख, समसामयिक विषय गद्य 
प्रकाशन- वर्तमान अंकुर, पत्रिका काव्य स्पंदन, दैनिक भास्कर,
सम्मान-सर्वश्रेष्ठ लेखन के लिए ऑनलाइन प्रशस्तिपत्र विभिन्न समूहों से, शब्द श्री, काव्य प्रत्यूषा, आदि 
अन्य उपलब्धियाँ-………शिक्षिका रह चुकी हूँ, कम्प्युटर प्रशिक्षक, ट्रांसलेटर 
लेखन का उद्देश्य-अपने मन के भाव लिखना, समाज में बदलाव लाना 
एक मौलिक रचना-शीर्षक सहित कविता क्या है?

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

आँगन में दीवार न करना

Thu Jul 5 , 2018
आँगन में दीवार न करना रिश्तों को अखबार न करना वाणी  मधुर तरल रहने दो शब्दों को तलवार न करना मन मरुथल जैसे हो जिनके उनसे तुम मनुहार न करना अभी अभी मन को समझाया फिर पायल झंकार न करना दिल के मीठे लब्ज पढ़ें थे कटुता का व्यवहार न […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।