कवि सम्मेलन / पुस्तक विमोचन / सम्मान समारोह

Read Time1Second
IMG-20190204-WA0442
छतरपुर(म.प्र.) |
3 फरवरी 2019 को छतरपुर(म.प्र.) में कवि सम्मेलन एवम पुस्तक विमोचन तथा सम्मान समारोह का आयोजन हुआ।विश्व जनचेतना ट्रस्ट भारत बीसलपुर,पीलीभीत(उ.प्र.) व जय जय हिन्दी पटल के संस्थापक प्रिय दिलीप कुमार पाठक ‘सरस’ जी के अद्भुत संचालन में शानदार और प्रिय नीतेंद्र सिंह परमार “भारत” के संयोजन में कवि सम्मेलन का आयोजन छत्रसाल स्मारक न्यास चौक बाजार, छतरपुर(म०प्र०) में आयोजित किया गया ।
विभिन्न प्रान्तों से पधारे कवियों के क्रम में आ0 संजीव खरे”समर्थ”जी,आ0 लियाक़त अली”जलज”जी,आ0 कौशल कुमार पाण्डेय”आस”जी,आ0बृजेन्द्र नारायण द्विवेदी”शैलेष”जी,आ0 राजेन्द्र प्रसाद बावरा जी,कविवर सन्तोष कुमार”प्रीत”जी, ( वनारस  )
प्रिय अनुज दिलीप पाठक “सरस”, ( बीसलपुर,पीलीभीत ) आलोक सैनी जी,विकास भारद्वाज “सुदीप” ( बदायूँ ) राजेश कुमार मिश्रा “प्रयास” ( बीसलपुर ) जी,तुलाराम अनुरागी”व्योम” ( हरपालपुर ) विश्वेश्वर शास्त्री”विशेष”( राठ ),सुमित शर्मा”पीयूष, ( बिहार ) की उपस्थिति ने इस आयोजन को अविस्मरणीय बना दिया।
इस सुअवसर पर साझा ग़जल संग्रह ‘मुहब्बत’ का विमोचन भी किया गया,जिसका सम्पादक आ० शैलेन्द्र खरे”सोम”(नौगाँव) है। इस अवसर स्थानीय वरिष्ठ विशिष्ट साहित्यकार आ० शिवभूषण सिंह गौतम जी ( कार्यक्रम अध्यक्ष ) आ० नवलकिशोर मायूस जी ( विशिष्ट अतिथि ),डॉ.राघवेंद्र उदेनिया सनेही जी,आ० रतनलाल नामदेव रत्नेश जी,आ० सुरेन्द्र शर्मा सुमन आ० भाई साहब अभिराम पाठक जी,आ० रमेश चंद्र चौरसिया जी,डॉ.अशोक त्रिपाठी जी,आ० लखन लाल सोनी जी,आ० रामकिशोर भट्ट जी,आ० रामलाल शर्मा रमन जी,आ० भाईसाहब अजय मोहन त्रिपाठी जी,आ० भाईसाहब देवेंद्र चतुर्वेदी जी,आ० भाईसाहब अभिषेक अरजरिया जी, आ० भाई साहब  सबीह हाशमी जी,बहिन कु.नम्रता जैन जी। सभी को साहित्य शिरोमणि अलंकरण से अलंकृत किया गया।
जिन्होंने इस कार्यक्रम में आर्थिक सहयोग किया।
भाईसाहब अभिराम पाठक जी, भाईसाहब अजय मोहन जी,भाईसाहब देवेंद्र चतुर्वेदी जी तथा जिसकी बदौलत कार्यक्रम सुन्दर सजाया गया तथा अपना पूर्ण समय देकर सहयोग किया और धन,मन,धन से भरपूर सहयोग  किया नवोदित रचनाकार प्रिये मित्र सौरभ नारायण शुक्ला जी,जयकांत पाठक जी ( विशेष रूप से हमारे साथ रहें। बहुत मेहनत की) ,अनंतराम बुनकर जी,हरिशंकर राठौर जी, साथ अन्य सहपाठियों में स्वदेश प्रताप,मुहम्मद हसन,शशिरंजन राजपूत,आलोक,आदि मित्रों ने कड़ी मेहनत कर कार्यक्रम सफल मनाया।तो वहीं कुछ मित्रों की कमी (जो किसी कारणवश इस आयोजन में नहीं आ सके)महसूस होती रही।
सभी का आर्शीवाद प्राप्त हुआ। आ० सुरेन्द्र शर्मा शिरीष जी का असीम सहयोग रहा।आदरणीय शैलेन्द्र खरे “सोम” जी के मार्गदर्शन में। साथ ही बुन्देलखण्ड केशरी छत्रसाल स्मारक ट्रस्ट के समस्त पदाधिकारियों का बहुत बहुत आभार साथ श्री गोपाल धर्मशाला ट्रस्ट वाले सभी पदाधिकारियों का साभार।जो कार्यक्रम सफल रहा। हम आप सभी का धन्यवाद ज्ञापित किस तरह करें। कोई शब्द नही बचे हुये हैं। आप सभी का आर्शीवाद मिलता रहे और विश्व जनचेतना ट्रस्ट छतरपुर मध्यप्रदेश द्वारा साहित्यिक कार्यक्रम होते रहें।
       प्रदेश अध्यक्ष 
नीतेन्द्र सिंह परमार ” भारत “
विश्व जनचेतना ट्रस्ट भारत 
छतरपुर  ( मध्यप्रदेश )
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

मालिक

Mon Feb 18 , 2019
परिवर्तन उसके हाथ मे है मौसम भी उसके हाथ मे है कब धूप कब छाया हो सब कुछ उसके हाथ मे है पाप धरा पर जब बढ़ जाते भूकंप, बाढ़ तभी आते पल भर में जीवन हर लेता नाम न अपना होने देता उसके वजूद को मान लो तुम अब […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।