बसंत के रंग

0 0
Read Time53 Second
kalpana gupta
बसंत के रंग
हुए ऐसे मेरे
अंग संग, बदली
मौसम ने चाल
पेड़ों पर आए
रंग बिरंगे फूल
हुवा वातावरण
सतरंगा खुशहाल।
लहर उठी सरसों
की सुनहरी बालियां
पेड़ पौधों में आ
गई नई कलियां
खिलने को रही मचल
बसंत ने लाया, रंग
रूप उनमें अचल।
हरी हरी डालियां
ऊपर से टेसू के रंग
पहने दुल्हन रंगों
से भरी साड़ी चली
मिलने प्रीतम के संग।
भंवरे भी गुनगुनाने लगे
कोयल के स्वर
सब को रिझाने लगे
नृत्यांगनाएं नृत्य करने लगी
दिलों में छाई मस्ती
मधुर तान बजने लगी
शिव विवाह हुआ संपन्न
धन्य है बसंत धन्य है बसंत।
#कल्पना गुप्ता
कल्पना रत्न

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

शब्द

Mon Jan 28 , 2019
शब्द बड़े अनमोल हैं रखिए इन्हें संभाल मन को तनिक न ठेस लगे बिना पंख उड़ जाय। पन्नों में शब्द चुनकर उतारिए वो अनमोल मोती बन जाय। समझने की भाव राखिए हकीकत से परिचय होय चंद लफ्जो में ही मन का दर्पण खोल । शब्दों की ताकत पहचानिए धार कभी […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।