अपने-अपने तुरुप के पत्ते

0 0
Read Time3 Minute, 18 Second
vaidik
इस समय देश की कोई भी राजनीतिक पार्टी ऐसी नहीं है, जिसे विश्वास हो कि वह चुनाव जीत जाएगी और वह सरकार बना लेगी। भाजपा और कांग्रेस अखिल भारतीय पार्टियां हैं। देश के लगभग हर जिले में इनका संगठन मौजूद है। इन्होंने अपने दम पर केंद्र और प्रांतों में सरकारें भी बनाई हैं। अब भी ये दोनों पार्टियां दावा कर रही हैं कि 2019 के चुनावों के बाद वे ही सरकार बनाएंगी लेकिन दोनों पार्टियों के नेताओं की हवा खिसकी हुई है। उन्हें पता है कि गणित का वे कोई भी सूत्र भिड़ा लें, उन्हें स्पष्ट बहुमत किसी हालत में नहीं मिलनेवाला है। अच्छा भाई, बहुमत न मिले तो न सही, कम से कम नाक तो नहीं कटे। याने कांग्रेस की 50 से बढ़कर 100-125 हो जाएं और भाजपा की 272 से कम से कम 200 तो रह जाएं। इतनी सीटों का भी दोनों को पूरा भरोसा नहीं है। दोनों पार्टियों को यह समझ में नहीं आ रहा कि कौनसा दांव मारा जाए कि चुनाव में मनोवांछित सीटें मिल जाएं। किसी भी पार्टी के पास मतदाताओं को रिझाने के लिए कोई झुनझुना नहीं है। कोई विकल्प नहीं है। कोई सपना नहीं है। कोई सब्जबाग नहीं है। एक-दूसरे की टांग खींचना ही उनका काम रह गया है। प्रांतीय पार्टियां महागठबंधन बनाने की पहल कर रही हैं। यह महागठबंधन भी वैकल्पिक नक्शे के हिसाब से ठनठनगोपाल है। तो अब क्या रास्ता बचा रह गया है ? अभी सभी दल कोई न कोई तुरुप का पत्ता निकालने के चक्कर में हैं। प्रियंका गांधी वाड्रा कांग्रेस की तुरुप का पत्ता है। अगर यह चल गया तो कम से कम उत्तरप्रदेश में 2 की बजाय 10 सीटें तो मिल ही सकती हैं लेकिन अखिल भारतीय स्तर पर यह पत्ता चलेगा या हिलेगा, इसमें भी संदेह है। जहां तक भाजपा का सवाल है, उसके तरकस में अभी कई तीर हैं। वह आम मतदाताओं को इतनी चूसनियां परोस सकती है कि वे मतदान-पेटी तक पहुंचते-पहुंचते मदहोश हो जाएं लेकिन साढ़े चार साल के जबानी जमा-खर्च ने इतना मोहभंग कर दिया है कि जनमत को अब किसी भी तरह अपने पक्ष में करना आसान नहीं है। हां, अंतिम ब्रह्मास्त्र है, अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण ! लेकिन मोदी सरकार तो अभी भी खड़ी-खड़ी अदालत का मुंह ताक रही है। उसके पास यह तुरुप का पत्ता है और आखिरी है लेकिन प्रियंका की तरह इसकी पहुंच भी बहुत सीमित होती जा रही है।
#डॉ. वेदप्रताप वैदिक

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

ग्राम विकास व राष्ट्र-धर्म के अग्रदूत भारत रत्न नानाजी देशमुख

Sat Jan 26 , 2019
यूं तो हमारा देश पुरातन काल से ही ॠषियों, मुनियों, मनीषियों, समाज सुधारकों व महापुरुषों का जनक रहा है जिन्होंने न सिर्फ भारत बल्कि पूरे विश्व का मार्गदर्शन कर जगत कल्याण का मार्ग प्रशस्त किया है। किंतु आधुनिक युग की बदलती हुई परिस्थितियों में ऐसे महापुरुष बिरले ही हैं। ग्यारह अक्टूबर, 1916 को महाराष्ट्र […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।