कसाब के नाम पर ब्रिज मुंबई हमले के शहीदों का अपमान है।

Read Time2Seconds
757963-627540-468845-mumbai-attacks
यह जानकर किसी भी देश-भक्त को दुःख होगा कि हमारे यहाँ किसी आतंकवादी के नाम से भी ब्रिज हो सकता है। दरअसल दक्षिणी मुंबई में छत्रपति शिवाजी टर्मिनस के उत्तरी गेट के पास एक ओवरब्रिज है, जिसे लोग ‘कसाब-ब्रिज’ कहने लगे हैं।
 मुंबई हमले के आतंकी अजमल कसाब के नाम से यह ब्रिज किसने रक्खा, कब रक्खा- यह मूल विषय नहीं है। मूल विषय यह है कि लोग इसे ‘कसाब-ब्रिज’ के नाम से ही बुला रहे हैं। किसी को कोई दिक्कत नहीं है।
मूल मुद्दों पर चुप हो जाना और बेकार की बातों को तूल देना हमें ख़ूब आता है। एक अलौकिक बालक क्या खाता है, क्या पहनता है और शादी के बाद कोई महान जोड़ी हनीमून मनाने कहाँ जा सकती है, हमारे लिए महत्त्वपूर्ण ख़बर है।
मीडिया एवं सरकार की सजगता और सहभागिता ऐसी होनी चाहिए थी कि शहीदों की याद में यह जगह विकसित होती, लेकिन फ़िक्र किसे है? इस मुद्दे को गंभीरता से लेते हुए अगर इसके चप्पे-चप्पे पर शहीदों की स्मृति में कुछ लिखा जाता, एक सकारात्मक विकल्प (नाम) दिया जाता तो बात बनती। लेकिन,  ‘सब चलता है’ के दृष्टिकोण की वजह से यह हो रहा है और हम लिजलिजे,  बिना रीढ़ की हड्डी वाले मौक़ापरस्त नागरिकों की तरह यह देख रहे हैं। वैसे यही तो हमारी प्रवृत्ति है, तभी तो वर्षों से आक्रांताओं को यहाँ जयचंद, मान सिंह, मीरजाफ़र, फनींन्द्र घोष आदि मिलते रहे हैं।
माना जाता है कि देश से राष्ट्र बनने की प्रक्रिया सांस्कृतिक अस्मिता-बोध से ही होकर गुजरती है। भारतीय परिप्रेक्ष्य में देखें तो सांस्कृतिक अस्मिता-बोध का अभाव ही मूल कारण है कि हम सदियों गुलाम रहे।  शहीदों के अपमान वाली चीजें छद्म-बुद्धिजीवियों के देश में ही जगह पा सकती हैं।
बहरहाल किसी शहीद के नाम पर अगर यह ब्रिज हो जाए तो इस कलंक से मुंबई शहर बच जाएगा। कम से कम इस मामले में महाराष्ट्र सरकार योगी आदित्यनाथ से सीख सकती है।
#कमलेश कमल
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

ख़्वाब से रूबरू....

Thu Nov 29 , 2018
होती मैं जिस ख़्वाब से रूबरू, वो खूबसूरत ख़्वाब है सिर्फ तू…! हृदय की हर धड़कन में बसा, वो मीठा एहसास है सिर्फ तू….! सिर्फ तेरे लिए ही छलकता, मेरी आँखों का गहरा समंदर….! तुझको ही हरपल मैं सोचूँ, कितनी बेचैनी है मेरे अंदर….! आ इन हाथो को थाम कर, […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।