होली पर शोध

Read Time11Seconds

shashank sharma1

आज व्यंग्यकार बनने के लिए मन अधीर हुआ,तो हो गया शुरु..,सोचा होली का माहौल है तो होली पर ही लिखा जाए। सोचना शुरू किया तो पहला प्रश्न आँखों के आगे आया कि, होली का मतलब है क्या?बचपन में नानी की जुबानी याद आई  कहानी कि,’हिरण्यकश्यप की बहिन हती होलिका बाके नाम पर धरो गओ नाम होली’..पर मन नहीं माना और शोध शुरु किया।
होली मतलब किसी की ‘होली’…,वैसे कवि ह्रदय लोग ही समझ सकते हैं कि,कैसे श्रंगार रस में तर प्रेम के रंग में रंगी सजनी अपने सजन की ‘होली’, वाकई अद्भुत है।
अंग्रेजी माध्यम में पढ़ रहे एक संस्कारी बच्चे को कहते सुना कि, होली को ‘होली-डे’ है। सच बताऊँ! दिमाग तब से कनफुजिया गया है कि, होली को ‘होली-डे’ है या ‘होली-डे’ को होली..

खैर,जो भी हो, ‘होली-डे’ में भी मस्ती होती है और होली के डे में भी। लगता है ‘होली-डे’ का नाम होली के डे पर ही रखा गया होगा।
फिर ध्यान आया कि, होली भारत का एक पवित्र त्यौहार है तो पवित्र का मतलब होता है ‘होली’। शायद अंग्रेजों ने भी अपने शब्दकोष का विस्तार भारत से ही किया हो।
होली पर इस शोध में एक और बात सामने आई कि, पवित्रता क्या होती है। पवित्रता तन की भी होनी चाहिए और मन की भी।
भले ही निगम की सीमा बढ़ गई हो,पर नल जल में तो हलाहल ही है।कमबख्त नल का भी कोई भरोसा नहीं,नहाना तो दूर धोने की भी समस्या है। ऐसे में कई लोगों ने तो ठण्ड के बहाने,पानी से परहेज ही कर लिया है..पर होली में तो इस तन में लगेंगे कई रंग,वार्निश,केमिकल युक्त रंग,देसी कीचड़ मिट्टी और न जाने क्या क्या? फिर उन्हें धोते-धोते पुरानी मैल की परत भी संग-संग धुलना ही तो है।
पहले के राजा-महाराजा भी कौन-सा साबुन लगाते थे! उलतानी- मुल्तानी ही सही थी तो मिटटी ही न!, उसी से तो नहाते थे। और आजकल जो साबुन बन रहे हैं,वो भी तो केमिकल के ही हैं। कौन-सा जड़ी बूटी के हैं, भले ही हरिद्वार से बन के क्यों न आए हों।
खैर,ख़ुशी की खबर ये है कि, होली के दिन दो बार नल आने वाले हैं,मतलब सब दिल खोल के नहाने वाले हैं। लो भाई हो गई न तन की पवित्रता होली के बहाने..,पर समस्या तो मन की है,क्योंकि ‘नहाए धोए क्या भला, जो मन मैल न जाए।’
पर उत्तर भी जल्दी ही मिल गया पुरानी होली की याद करके। कैसे कल्लू चाचा भंग के गन्नाटे में सन्ना के अपने दिल की भड़ास को बार- बार रट रहे थे। वो तो अच्छा हुआ कि, चमेली काकी ने सुनी नहीं,नई तो काका घर में घुसना क्या,खाना-पीना सब भूल जाते।
आजकल के जवान छोकरों ने तो वाकई सिद्ध कर दिया है कि, सही में होली मन की सफाई है। अरे छटाक भर उतरी नहीं हलक के नीचे और बन गए राजा हरिश्चंद्र की औलाद,पूरे साल भर की भड़ास निकाल ली। और अगले की क्या मज़ाल कि, कुछ बोले.. वरना हो गया बलवा। अब तो खिसियाए सिपाही  के लठ का प्रसाद मिलना ही है। पत्नी के तानों से परेशान बाल-बच्चों का त्यौहार छोड़ के आज के दिन बिना सुरापान किए ड्यूटी कर रहा है,तो काहे नहीं खिसियाएगा ।
इस दिन ‘अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता’ है, लेकिन भैया लफड़ा मत कर लेना..।वरना देश के ख़िलाफ़ बोलकर भी नेता बन गए,और किसी के बारे में कहकर देखो-पूरे दांत हाथ में पकड़ा देगा आपके,भले ही देखने में दुबला पहलवान ही क्यों न हो। तो भैया सब सीमा के भीतर..छटाकभर सुरापान करके मन  ज्यादा ही पवित्र नहीं कर लेना।
खैर मुद्दे पे आते है कि,अब नवमी की क्लास के गणित के प्रमेय की तरह सिद्ध हो गया कि,अंग्रेजों ने होली शब्द भी भारत में होली मना के ही सीखा है और होली का त्यौहार तन और मन की पवित्रता का प्रतीक है।
इति सिद्धम…

#शशांक दुबे

लेखक परिचय : शशांक दुबे पेशे से उप अभियंता (प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना), छिंदवाड़ा, मध्यप्रदेश में पदस्थ है| साथ ही विगत वर्षों से कविता लेखन में भी सक्रिय है |

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

जीवन साथी

Sat Mar 11 , 2017
किसी से प्यार मिले-न मिले, नफरत नहीं चाहिए.. जिन्दगी के इस सफर में प्यार मिलना चाहिए। जीवन साथी जो मिले, विश्वाश होना चाहिए.. गाड़ी के दो चक्के हैं, साथ चलना चाहिए। जिन्दगी में सब मिले, नफरत न होना चाहिए.. सुख में भी और दुःख में भी एकसाथ चलना चाहिए। कदम-से-कदम […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।