मन के मनके (पुस्तक समीक्षा)

Read Time4Seconds
cropped-cropped-finaltry002-1.png
 मन के मनके: काव्य-संग्रह
◾◾◾◾◾◾◾◾◾◾
कवियित्री : डॉ. पुष्पा जोशी
संस्करण  : प्रथम, हार्डबाउंड 2018
प्रकाशक : अमृत प्रकाशन, दिल्ली
पृष्ठ         : 110
मूल्य       : 250/- रूपये मात्र
***************************
कबीरदास जी ने कहा था –
माला फेरत जग भया, फिरा न मन का फेर ।
कर का मनका डार दे, मन का मनका फेर  ।।
निःसंदेह हाथ में माला लेकर घुमाने से मन के भाव नहीं बदलते। न ही मन को शान्ति मिलती है। कबीर नें कहा था, हाथ की माला को छोड़कर मन के मनकों को बदलना होगा।
डॉ. पुष्पा जोशी जी कहती हैं –
मन  का  मन, मनका भया
मन  का  तन, मनका भया
पाकर  तन-मन  का मनका
जग   मनका-मनका   भया
 कबीर के भावों को आत्मसात कर शायद यही कहना चाहा है पुष्पा जी ने कि मनका न कर में रहे न मन में। कर्तव्य में समाहित हो जाए मनका और जीवन समर्पित हो उस मालाकार माला को जिसमें समय की विडंबनाओं व सांस्कृतिक चेतना की पड़ताल हो। सुख-दुःख का व्यौरा हो और उदासी के साथ उल्लास का संचार हो। प्रेम भी हो और मानव का मानव के प्रति आस्था में विशवास हो।
 इस संग्रह में छंदमुक्त कविताओं व चतुष्पदी के 109 मनकों की माला बनाई है पुष्पा जी नें जिसमें 53 कविताओं और 56 मुक्तकों को गूंथा है। सरस्वती वंदना के बाद आपने कभी देवभाषा संस्कृत कभी हिंदी में भावों को संजोया है परन्तु आपका उर्दू प्रेम भी परिलक्षित होता है रचनाओं में।
भारतं भावयामो वयं सादरं में आपने भारतवर्ष की भावप्रवण स्तुति की है। भिक्षाटन कविता में आपने बुद्ध के मन की उधेड़बुन को दिखलाते हुए उस दर्शन की विवेचना की है जहाँ संशय दिखलाई देता है।
बुद्धम् शरणम् गच्छामि
घोष पड़ा मेरे कानों में
उद्घोष करते अनुयायी मेरे
मुझमे ईश्वरत्व देखने लगे हैं
पर मैं ….. ?
बस यही प्रश्नचिन्ह है सार इस रचना का। बुद्धम् शरणम् गच्छामि का उद्घोष क्या मार्ग बन सका मुक्ति-पथ का या केवल भिक्षाटन का साधन बनकर रह गया है ?
 गंगा की गुहार में भी आपने कठघरे में खड़ा कर दिया है आधुनिक भागीरथों को। चेतावनी भी दी है –
रे भागीरथ ! धिक्कार है इन्हें
माँ कहकर माँ पर अत्याचार ?
मैं माँ हूँ …..
और दो पंक्तियों में जो कह दिया वह एक ग्रन्थ के बराबर है।
फिर कमंडल में समा जाऊँगी
ब्रह्म-कमंडल में समा जाऊँगी ।
 अपनी रचनाओं में ऐतिहासिक पात्रों का जिस तरह से प्रयोग किया है पुष्पा जी ने वह प्रभावी होने के साथ-साथ पाठक की आस्था व विश्वास को पुष्ट करता है। अपने व्यक्तित्व के अनुरूप आपकी भाषा भी सहज, सरल है जिसमें कविता का सौन्दर्यबोध अधिक निखर कर सामने आता है।
 दूसरे भाग में आपने चतुष्पदी के माध्यम से इन्द्रधनुषी छटा में भावों के रंग बिखेरे हैं। सर्व-धर्म समभाव लिए यह मुक्तक बानगी है =
सब   कुछ   मुझमें   समाया  है
हर   रंग    मुझको     भाया है
जन्मी   हूँ   सृष्टि में तेरी  जबसे
सभी धर्मों को अपने भीतर पाया है
 हलके-फुल्के भावों को भी आपने सहजता से उच्च अर्थों में बांधा है।
तुम बिन  सूनी  मोरी अटरिया
कित  गये मोहे  छोड़ साँवरिया
पल-छिन मोहे अब चैन न आये
कर  दऔ तुमने मोहे  बाबरिया
भक्ति की पराकाष्ठा दिखलाई देती है इन पंक्तियों में।
 सुरक्षा-प्रहरिओं पर कही ये पंक्तियाँ देशप्रेम की अलख जगाती लगती हैं,
सज़दा करो उन्हें कि वे देश पर कुर्बान होते हैं
सीमा पर सिपाही यही, शत्रु का फ़रमान गोते हैं
य़क बार ख़ुद को जगह उनकी रख देखो यारों !
सीमाओं के ये  प्रहरी, हमारे  निगहवान होते हैं
 यह मुक्तक शायद पाठकों के लिए लिखा है पुष्पा जी नें –
मित्रों ! मान है, सम्मान है
माँ सरस्वती का वरदान है
सार्थकता मेरी है तब तक-
आपको जब तक पहचान है
हम तो यही चाहेंगे की माँ सरस्वती का वरदान सदैव आप पर बना रहे और इसी तरह से आपकी सुलेखनी काव्य-सागर में अनवरत् रसधार उंडेलती रहे, रसिक पाठकों को काव्य-रस सुलभ होता रहे। इस माला में अभी मनके कम लग रहे हैं। अनुरोध है शीघ्र ही दूसरी सुमरनी भी आये हमारे हाथों में मन के मनके बन कर। अशेष बधाई व अनन्त मंगलकामनाओं सहित….. एक पाठक।
                     #मुकेश दुबे
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

सीमाएं...बहुत ही दूर

Thu Jul 19 , 2018
पर्वत को तू हिला सकता है; भूतों को तू डरा सकता है; हर दानव को हरा सकता है; जल की बूँदें जला सकता है। तू तो है अनजान, पता न “जीवन कैसे है जीना”; तीन ही सीढ़ी चढ़ा और बोला- खत्म हो गयी सीमा। “बिन पग के न उड़ूँ” सोचते […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।