*कलम*

Read Time4Seconds

babulal sharma
कलम चले सतत समय सी,
लिखती नई  इबारत  सारी।
इतिहासों  को कब  भूलें है,
लिखना देव इबादत  जारी।
…….✍✍
घड़ी  सूई व चलित लेखनी,
पहिये कालचक्र अविनाशी।
चलते लिखते घूम घूम कर,
वर्तमान- भावि – इतिहासी।
……✍✍
मिटते नहीं  कलम के लेखे,
जैसे  विधना लेख अटल है।
हम तो बस कठपुतली जैसे,
नाचे  नश्वर  जगत पटल है।
……✍✍
कलमी शक्ति कवि पहचाने,
क्रांति  कथानक,सत्ताधारी।
गोली , तोप, तीर , तलवारे,
बम, और  सत्ता   से  भारी।
……✍✍
कलमकार सिरकलम हुए है,
जब  जब    सत्ताधीशों   से।
नई क्रांति  कलम  ही  लाती,
सत्ता कुचली  नर  शीशो से।
……✍✍
कूँची कलमशक्ति हथियाके,
नई  व्यवस्था  सत्ता   करते।
कलमवीर सिरकलमी न हो,
ऐसी  सोच व्यवस्था  करते।
……✍✍
कलम  रचाती  नई  क्रांति,
नवाचार   हर   क्षेत्र   करे।
पौधे कलम  नस्ल बीज से,
हरित क्रांति  हर खेत हरे।
……✍✍
कलम  सर्वदा सत्य छाँटती,
जैसे  दर्पण  कलम काटती।
सामाजिक सद्भाव पिरोकर,
ऊँच  नीच  मतभेद  पाटती।
……✍✍
कलम अजर है कलम अमर,
कलम विजयी  है सर्व समर।
कलमकार तन वस्त्र बदलते,
कलम  बचे जग ढहे  अगर।
……✍✍
वेदों  से  लेकर संविधान तक,
रामायण  ईसा   कुरान   तक।
कलम कालगति चलते रहती,
सृष्टिसृजन से प्रलयगान तक।

नाम– बाबू लाल शर्मा 
साहित्यिक उपनाम- बौहरा
जन्म स्थान – सिकन्दरा, दौसा(राज.)
वर्तमान पता- सिकन्दरा, दौसा (राज.)
राज्य- राजस्थान
शिक्षा-M.A, B.ED.
कार्यक्षेत्र- व.अध्यापक,राजकीय सेवा
सामाजिक क्षेत्र- बेटी बचाओ ..बेटी पढाओ अभियान,सामाजिक सुधार
लेखन विधा -कविता, कहानी,उपन्यास,दोहे
सम्मान-शिक्षा एवं साक्षरता के क्षेत्र मे पुरस्कृत
अन्य उपलब्धियाँ- स्वैच्छिक.. बेटी बचाओ.. बेटी पढाओ अभियान
लेखन का उद्देश्य-विद्यार्थी-बेटियों के हितार्थ,हिन्दी सेवा एवं स्वान्तः सुखायः

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

पैगाम

Sun Nov 25 , 2018
हांथों में तिरंगा लिए,शान रखता हूँ मैं हिंदुस्तानी हूँ पहचान  रखता  हूँ इरादे अपने मैं  बदल नहीं  सकता हँसता हूँ हँसाता हूँ मुस्कान रखता हूँ जीना है मरना है वतन के खातिर कफ़न मेरा तिरंगा हो अरमान रखता हूँ हिन्दू,मुसलमान,शिख हो या ईसाई भाई हैं सभी मेरे सम्मान  रखता हूँ […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।